आखिर 3 मई को क्यों मनाया जाता है विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस ?

0 363

संयु राष्ट्र संघ ने वर्ष 1993 में विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस की घोषणा की थी, उसके अनुसार यह दिन प्रेस की स्वतंत्रता के सिद्धांत, प्रेस की स्वतंत्रता का मूल्यांकन, प्रेस की स्वतंत्रता पर बाहरी तत्वों के हमले से बचाव और प्रेस की सेवा करते हुए दिवंगत हुए पत्रकारों को श्रृद्धाजंलि देने का दिन है।

भारत में प्रेस की स्वतंत्रता भारतीय संविधान के अनुच्छेद-19 में भारतीयों को दिए गए अभिव्यक्ति की आजादी के मूल अधिकार से सुनिश्चित होती है। विश्व स्तर पर प्रेस की आजादी को सम्मान देने के लिए संयुक्त राष्ट्र संघ की महासभा द्वारा 3 मई को विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस घोषित किया गया, जिसे विश्व प्रेस दिवस के रूप में भी जाना जाता है।

यूनेस्को द्वारा 1997 से हर साल 3 मई को विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस पर गिलेरमो कानो वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम पुरस्कार भी दिया जाता है। यह पुरस्कार उस व्यक्ति अथवा संस्थान को दिया जाता है जिसने प्रेस की स्वतंत्रता के लिए उल्लेखनीय कार्य किया हो।

वर्ष 2014 का गिलेरमो कानो वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम पुरस्कार तुर्की के अहमत सिक को दिया जाएगा। 1997 से अब तक भारत के किसी भी पत्रकार को यह पुरस्कार नहीं मिलने की एक बड़ी वजह कई वरिष्ठ पत्रकार पश्चिम और भारत में पत्रकारिता के मानदंडों में अंतर को बताते हैं।

उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय में मीडिया विभाग के प्रमुख गोविंद सिंह ने कहा कि भारतीय पत्रकारिता में हमेशा विचार हावी होता है। जबकि पश्चिम में तथ्यात्मकता पर जोर दिया जाता है। इससे कहीं न कहीं हमारे पत्रकारिता के स्तर में कमी आती है। इसके अलावा भारतीय पत्रकारों में पुरस्कारों के प्रति जागरूकता की भी कमी है वे इसके लिए प्रयासरत नहीं रहते।

यह भी पढ़ें : कोरोना: लगातार टूट रही पत्रकारों की सांस

भारत में मीडिया लगातार दबाव में है और प्रेस की आजादी से जुड़ी ताजा सूची में 180 देशों में 133वें नंबर पर है। एक अंतर्राष्ट्रीय निगरानी संस्था ने यह जानकारी दी। इसमें आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी पत्रकारों पर खतरे को लेकर ‘उदासीन’ हैं।

पेरिस स्थित संस्था ‘रिपोर्टर्स विदाउट बॉडर्स’ ने दुनिया में मीडिया की आजादी के बारे में यह भी निराशाजनक रिपोर्ट दी है कि सरकारों, विचारधाराओं और निजी क्षेत्र के हितों के दबाव की वजह से स्थिति और खराब हुई है।

-Adv-

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप डेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More