विवेक तिवारी हत्या : पत्नी ने सीएम से मांगा नौकरी और एक करोड़ का मुआवजा

लखनऊ में अपनी एक्सयूवी 500 से घर लौट रहे ऐप्‍पल कंपनी के एरिया मैनेजर विवेक(Vivek) तिवारी की मौत पुलिस की गोली से हुई। इस बात की पुष्टि होने के साथ ही न सिर्फ महकमे बल्कि पूरे प्रदेश में हड़कंप मच गया। मामले में क्या योगी आदित्यनाथ और क्या एसएसपी, सभी पूरी तरह बैकफुट पर आ गए हैं।

मुख्यमंत्री के आने के बाद होगा अंतिम संस्कार

इसी बीच विवेक की पत्नी ने भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कुछ सवाल पूछ कर विभाग को सवालों के घेरे में ला दिया है। उन्होंने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर ये मांग की है कि इस मामले की निष्पक्ष जांच की जानी चाहिए। जब तक मुख्यमंत्री खुद आकर नहीं मिलेंगे तबतक विवेक का अंतिम संस्कार नहीं होगा।

vivek tiwari's latter

इस पत्र में लिखा गया है कि जांच पुलिस द्वारा न कर सीबीआई से कराई जाए ताकि गुनहगारों को सजा मिल पाए और हमें न्याय मिले।

इसके साथ ही कल्पना ने यह भी मांग की है कि पीड़ित परिवार को आर्थिक रूप से सिर्फ विवेक ने ही संभाला था इसलिए पुलिस विभाग कल्पना की शिक्षक योग्यता को देखते हुए उसे नौकरी दे। विवेक की बुजुर्ग मां और बच्चों के भविष्य के लिए कम से कम एक करोड़ मुआवजे के रूप में दिया जाये।

सख्त कार्रवाई के आदेश

हालांकि, एसएसपी ने अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि विवेक तिवारी हत्याकांड में मजिस्ट्रियल जांच के लिए DM लख़नऊ को आवेदन भेजा है। विवेक तिवारी हत्याकांड मामले में अब मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने सख्‍त कार्रवाई के आदेश दिए हैं। सीएम ने डीजीपी ओपी सिंह से बात कर पूरे मामले की जांच करने और कार्रवाई करने के लिए कहा है।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)