T-Series : जूस बेचने वाले लड़के ने कैसे बनाई देश की सबसे सफल म्यूजिक कंपनी

0 490

हम किसी भी बॉलीवुड फिल्म के गाने देख ले उन सब को बनाने में T-Series का अहम रोल होता है। T-Series भारत की सबसे बड़ी म्यूजिक कंपनी होने के साथ आज  T-Series का नाम दुनिया की बड़ी म्यूजिक कंपनियों के साथ जोड़ा जाता है। T-Series के मार्केट में करीब 60% शेयर है। भारत की ये म्यूजिक कंपनी उस स्टेज पर खड़ी है जहां से बस उसे सफलता ही सफलता हासिल हो रही है। मात्र एक छोटे से बिजनेस को दुनिया में सबसे सफल म्यूजिक कंपनी बनाने के पीछे जो शख्स है उसका नाम था गुलशन कुमार।

अपने शुरुआती समय में उन्होंने काफी संघर्ष किया लेकिन उन्होंने अपनी मंजिल की राह न बदलते हुए दुनिया के सामने अपनी कामयाबी की एक नई कहानी लिखी है। जब कोई व्यक्ति सफल होता है तब उसके पीछे कई दुश्मन लग जाते है और यही हुआ गुलशन कुमार के साथ। महज 41 वर्ष की उम्र में उनकी गोली मरकर हत्या कर दी गई।

लेकिन उनके जीवन की ये छोटी सी कहानी कई लोगों के लिए प्रेरणा बन गई और आज गुलशन  कुमार की जीवन स्टोरी लाखों लोगों को जीवन जीने की प्रेरणा देती है। आईए जानते है T-Series की सफल होने की पूरी कहानी क्या है। कैसे एक छोटी सी दुकान पर जूस बेचकर अपने करियर की शुरुआत करने वाले लड़के ने एक ऐसी म्यूजिक कंपनी बनाई जो न सिर्फ भारत में हिट बल्कि दुनिया में भी हिट साबित हुई।

ऐसी है गुलशन कुमार की कहानी-

T-Series की इस कहानी की शुरुआत होती है 5 मई 1956 में जब देश की राजधानी दिल्ली में रह रहे एक पंजाबी हिन्दू परिवार में गुलशन कुमार दुआ का जन्म हुआ। गुलशन कुमार के पिता नाम चंद्रभान दुआ था जो दिल्ली में ही रहकर दरियागंज इलाके में एक छोटी सी जूस की दुकान चला कर अपने परिवार का खर्च चलाते थे। घर में आर्थिक तंगी के कारण गुलशन कुमार भी अपने पिता के साथ जूस की दुकान पर काम करने लग गए।

उनके पिता की जूस की दुकान से अच्छी कमाई न होने की वजह से उन्होंने ऑडिओ कैसेट बेचने का काम शुरू कर दिया। तब मार्केट में ऑडियो कैसेट के बारे में किसी को नहीं पता था। इस वजह से उनका ये बिजनेस काफी सफल होने लगा। इस काम में उन्होंने काफी पैसों की बचत की और अपने इस बिजनेस और आगे ले जाने के बारे में सोचा। तब उन्होंने दिल्ली के नोएडा में कार्य का विस्तार किया और सुपर कैसेट्स इंडस्ट्रीज नाम की म्यूजिक कंपनी की शुरुआत की।

जब मुंबई पहुंचे गुलशन-

इस काम के दौरान गुलशन कुमार ने सोचा कि अगर उन्हें अपने म्यूजिक कंपनी को बॉलीवुड के साथ जोड़ना है तो इसके के लिए उन्हें मुंबई की राह देखनी होगी। अपने इसी लक्ष्य के साथ गुलशन कुमार मुंबई पहुंच गए और वहां पर रहते हुए उन्होंने म्यूजिक को और अच्छी तरह से समझा और अपने बिजनेस को आगे बढ़ाने के काम में जुट गए।

तब साल 1983 में उन्होंने अपनी कंपनी का नाम बढ़ते हुए उसे T-Series का नाम दे दिया। तब T-Series ने पहली बार बॉलीवुड की फिल्म में काम करते हुए साल 1984 में बनी फिल्म लल्लूराम राम से अपना पहला म्यूजिक लॉन्च किया। हांलाकि ऐसा नहीं है की T-series को अपनी शुरुआती काम से ही सफलता मिल गई थी। उनके शुरुआत के कई एल्बम रिलीज होने के बाद भी उन्हें सफलता और पहचान दोनों नहीं मिल पाई थी। तब उस दौर में गुलशन  कुमार के द्वारा गाये हुए गानो को T-Series अपने स्तर पर रिलीज करती रही। गुलशन कुमार के उस दौर में गाये हुए भजन आज भी लोगों के दिलों पर राज करते है।

बनाया रिकॉर्ड-

अपने गानों के बाद भी गुलशन कुमार ने प्रयास जारी रखे और साल 1990 में बॉलीवुड में आयी फिल्म आशिकी से उनकी कंपनी को एक अलग पहचान मिली। तब इस फिल्म की अल्बम की कुल 20 मिलियम कॉपी बेचीं गई जो अब तक सबसे ज्यादा बेचे जाने वाले अल्बम में सबसे ऊपर है।

T-Series को यहां से जो सफलता मिली थी वो कभी नहीं रुकी और T-Series लगातार बॉलीवुड इंडस्ट्री में सफलता के झंडे गाड़ती गई और साल 1997 में T – series बॉलीवुड की सबसे बड़ी म्यूजिक कंपनी बन गई। और तब से गुलशन कुमार अपनी म्यूजिक कंपनी T-Series के साथ मिल कामयाबी की हर मंजिल को पार कर रहे थे। मार्केट में T-Series की इतनी बड़ी सफलता के बाद गुलशन  कुमार से उनके बाकि म्यूजिक कॉम्पिटिटर उनके साथ जलन और द्वेष की भावना रखने लगे।

जब हुई गुलशन कुमार की हत्या-

जब वो 12 अगस्त 1997 को अपनी शूटिंग के लिए जा रहे थे तब उनकी गोली मारकर हत्या कर दी गई। जब इस पूरे हत्याकांड की जांच हुई तब सामने आया की उनकी मौत अबू सलेम जो D कंपनी के गिरोह का सदस्य है, उसने करवाई थी। गुलशन कुमार और उनकी पत्नी सुंदेशा कुमारी की तीन संतानें है जिनमें एक लड़का और दो लड़कियां है। लड़के का नाम था भूषण कुमार और लड़कियों के नाम तुलसी और खुशाली रखें गए।

जब गुलशन कुमार इस दुनिया और T-Series का साथ छोड़ चुके थे, तब T-Series को संभालने का जिम्मा उनके भाई किशन कुमार और बेटे भूषण ने उठाई। तब इन दोनों ने मिलकर समय के साथ कंपनी को इम्प्रूव किया और कंपनी को नई ऊंचाइयों तक पहुंचाया। भूषण कुमार एक यंग मेन थे और उन्होंने बदलती टेक्निक का उपयोग करते हुए T-Series को काफी आगे ले गए। यही कारण है की T-Series आज भारत की नंबर 1 म्यूजिक कंपनी बनी हुई है।

देश ही नहीं विदेशों में भी T – series नंबर 1-

बढ़ती तकनीक के साथ T – series 13 मार्च 2006 को You Tube के साथ जुड़ा और You Tube पर लोगों ने T – series को इतना पसंद किया की आज You Tube पर सब्सक्राइब्ड You Tube चैनल है। You Tube से जुड़ने के बाद T-Series ने एक लंबे अंतराल के बाद साल 2010 में अपने चैनल पर पहला वीडियो अपलोड किया।

आज की तारीख में T-Series के You Tube चैनल पर 65 मिलियन से भी ज्यादा सब्सक्राइबर्स है। T-Series के इस You Tube चैनल से हर रोज डेढ़ लाख से भी ज्यादा सब्सक्राइबर्स जुड़ते है। T-Series ने साल 2018 की जनवरी से लेकर जुलाई 2018 तक अपने इस You Tube चैनल से करीब 100 मिलियन की कमाई की जो T-Series की सफलता का सबसे बड़ा केंद्र बन गया है।

यह भी पढ़ें: चीन के बॉयकाट से भारत पर आ सकती है ये बड़ी मुसीबत !

यह भी पढ़ें: इमरजेंसी के किस्से : …जब बनारस की आवाज बनकर उभरी थी रणभेरी

-Adv-

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप हेलो एप्पडेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More