सोनिया : लॉकडाउन जरूरी, लेकिन बगैर तैयारी के लागू हुआ

वंचित तबकों और दिहाड़ी मजदूरों की भलाई के लिए कई कदम उठाने की सलाह दी

0 171

देश में कोरोनावायरस महामारी के बढ़ते मामलों के बीच कांग्रेस कार्यकारी समिति ने Sonia Gandhi की अगुवाई में बैठक का अयोजन किया और कांग्रेस शासित राज्यों से वहां किए जा रहे इंतजामों को लेकर फीडबैक लिया। पार्टी ने इस दौरान समाज के वंचित तबकों और दिहाड़ी मजदूरों की भलाई के लिए कई कदम उठाने की सलाह दी। पार्टी अध्यक्ष Sonia Gandhi ने लॉकडाउन को बगैर तैयारी लागू करने की आलोचना की और जोर देकर कहा कि टेस्ट करने से ही इस बीमारी से पार पाया जा सकता है, जिसका देश में अभाव है। साथ ही उन्होंने सरकार से ‘आम न्यूनतम राहत पैकेज’ तैयार करने और इसे जारी करने की मांग की।

21 दिन का देशव्यापी लॉकडाउन हो सकता है जरूरी हो

Sonia Gandhi ने अपने बयान में सरकार की ओलाचना की और कहा कि 21 दिन का देशव्यापी लॉकडाउन हो सकता है जरूरी हो, लेकिन इसे बगैर तैयारी के साथ लागू किया गया, जिससे अफरातफरी का माहौल उत्पन्न हुआ और पूरे भारत में लाखों प्रवासी मजदूरों को परेशानी का सामना करना पड़ा।

डाक्टर, नर्स और स्वास्थ्य कर्मियों को सभी संभव सहायता दी जानी चाहिए

Sonia Gandhi ने कहा, “हमारे डॉक्टर, नर्स और स्वास्थ्य कर्मियों को सभी संभव सहायता दी जानी चाहिए। उन्हें युद्ध स्तर पर निजी सुरक्षा उपकरण मुहैया कराया जाना चाहिए। उसी तरह वेंटिलेटर, आइसोलेशन बेड और कोविड के लिए समर्पित अस्पतालों की आवश्यकता है।”

Sonia Gandhi ने इसके अलावा प्रवासियों की सही से देखभाल नहीं करने को लेकर सरकार पर निशाना साधा।

उन्होंने कहा कि यह देखना काफी दुखदायी है कि सैकड़ों प्रवासी बिना खाए-पीए अपने घरों की ओर जाने के लिए हजारों किलोमीटर की यात्रा तय कर रहे हैं।

-Adv-

यह भी पढ़ें: जनता कर्फ्यू के बाद भी तबलीगी जमात में बेतहाशा भीड़ मौजूद थी

यह भी पढ़ें: दक्षिण एशिया में कोरोना फैलाने में सबसे बड़े वाहक हो सकते हैं तबलीगी जमात के प्रचारक

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More