हाई प्रोफाइल नौकरी छोड़ इंजीनियर ने बदली तालाबों की सूरत

आज ज्यादातर युवा इंजीनियरिंग कर मल्टी-नेशनल कंपनी में जॉब कर अपनी मनपसंद जिंदगी जीना चाहता है। लेकिन उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा ने एक इंजीनियर ने अपने आस पास के तालाबों की सफाई और उनके पुनर्जीवन के लिए एक बहुराष्ट्रीय कंपनी की नौकरी छोड़ दी। 

यूपी के ग्रेटर नोएडा के रहने वाले रामवीर तंवर ने मैकेनिकल इंजीनियरिंग में बीटेक किया है। उन्हें इंजीनियर के तौर पर बढ़िया नौकरी भी मिल गई। लेकिन उन्होंने तालाबों को पुनर्जीवित करने के लिए एमएनसी की हाई प्रोफाइल नौकरी छोड़ दी।

26 वर्षीय रामवीर तंवर ने पिछले पांच वर्षों में उन्होंने दस तालाबों को बचाया है। इसके अलावा रामवीर पानी की कमी की समस्या से लड़ने के लिए भी लगातार गांवों में जल सरंक्षण जागरूकता का अभियान चला रहे हैं।

जल सरंक्षण पर भी दिया ज़ोर-

बचपन से ही पानी की बर्बादी को गौर करते आये रामवीर ने कॉलेज दिनों के दौरान ही पानी के उपयोग को लेकर लोगों को सचेत करना शुरू कर दिया था।

जल सरंक्षण जागरूकता पैदा करने के लिए रामवीर जल-चौपाल नाम से जनसभाओं का आयोजन करते हैं। उनके प्रयासों को देखते हुए प्रशासन भी समय समय पर उनको सहयोग प्रदान करता है।

तालाबों को सरल और लागत प्रभावी तरीकों से साफ करना और फिर स्थानीय किसानों को मछली पालन करने के लिए प्रोत्साहित करना उनका मुख्य उद्देश्य होता है।

नियमित बैठकें करने के बाद तंवर ग्राम प्रधानों को समझाने में भी सक्षम हुए हैं, जो स्थानीय लोगों को जल संरक्षण में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करते हैं ताकि वे लोग भावनात्मक रूप से इससे जुड़ा महसूस कर सकें।

यह भी पढ़ें: जलियांवाला बाग नरसंहार के लिये माफी मांगे ब्रिटेन सरकार!

यह भी पढ़ें: अप्रैल फूल: मोदी डे या पप्पू दिवस? खुद करें तय…

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)