कुमारस्वामी सरकार गिरने की कगार पर, BJP क्यों नहीं ला रही अविश्वास प्रस्ताव?

कर्नाटक की सियासत गर्माती जा रही है, सत्ताधारी पार्टी के विधायकों के भागी होने के बाद जहां एक ओर सुप्रीम कोर्ट ने विधायकों को पुलिस प्रोटेक्शन में राज्यपाल से आज शाम छः बजे तक मिलने के आदेश दिए हैं, वहीं अल्पमत से गिर रही कुमार स्वामी की सरकार के खिलाफ भाजपा अविश्वास प्रस्ताव नहीं ला रही है, बल्कि नैतिकता के आधार पर कुमार स्वामी के इस्तीफे की मांग कर रही है।

कांग्रेस-जेडीएस के विधायक हुए बागी:

कर्नाटक में कांग्रेस पार्टी के दो और विधायकों के इस्‍तीफे के बाद कर्नाटक की एचडी कुमारस्‍वामी सरकार अल्‍पमतमें आ गई है, लेकिन मुख्‍य विपक्षी बीजेपी अब भी अविश्‍वास प्रस्‍ताव लाने से डर रही है।

कर्नाटक में शुक्रवार से विधानसभा का मॉनसून सत्र शुरू हो रहा है। अविश्‍वास प्रस्‍ताव लाने की बजाय बीजेपी नैतिकता के आधार पर एचडी कुमारस्‍वामी के इस्‍तीफे की मांग कर रही है।

ये भी पढ़ें:  Video: BJP विधायक की बेटी ने की लव मैरिज, कहा- पापा से जान का खतरा

ताजा इस्तीफे के बाद कांग्रेस-जेडीएस सरकार के असंतुष्‍ट विधायकों की संख्‍या 16 हो गई है जबकि विधानसभा में उनकी संख्‍या 118 से घटकर अब 100 पहुंच गई। सरकार बचाए रखने के लिए जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन को 105 विधायकों की जरूरत है।

भाजपा के अविश्वास प्रस्ताव न लाने की यह है वजह :

कांग्रेस-जेडीएस के 16 विधायकों ने इस्‍तीफा दे दिया है, फिर भी अभी तक विधानसभा अध्‍यक्ष रमेश कुमार ने अभी तक उनका इस्‍तीफा स्‍वीकार नहीं किया है। इस वजह से अभी तक विधानसभा की सदस्‍यता जस की तस यानि 224 सदस्‍य बनी हुई है। ऐसी स्थिति में अगर विश्‍वास मत प्रस्‍ताव या अविश्‍वास मत प्रस्‍ताव लाया जाता है तो कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन विप जारी करके आसानी से बहुमत हासिल कर सकता है।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)