कोरोना पॉजिटिव हैं पत्नी, बेटी की देखभाल के लिए नहीं मिली छुट्टी, सीओ ने दिया इस्तीफा

0 973

उत्तर प्रदेश के झांसी जिले के सीओ सदर ने कोरोना काल में बेटी और पत्नी का ख्याल रखने के लिए छुट्टी मांगी थी, लेकिन न मिलने पर उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। दरअसल, उनकी पत्नी कोरोना पॉजिटिव हैं और घर पर 4 साल बच्ची की देख-रेख करने वाला कोई नहीं। 

ऐसे में जब सीओ मनीष सोनकर ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से छुट्टी मांगी, तो SSP रोहन पी कानय ने मना कर दिया। ऐसे में बेटी का ख्याल रखने के लिए सीओ सदर ने नौकरी से रिजाइन करना ही सही समझा। वहीं, एसएसपी ने सीओ सदर के इस्तीफे को उच्चाधिकारियों को भेज दिया है।

सीओ ने लिखी ये बात

आपको याद हो, रोहन पी कानय देवरिया शेल्टर होम कांड के दौरान सुर्खियों में आए थे। सीओ सदर मनीष सोनकर ने एक पत्र भी जारी किया था जो अब वायरल हो रहा है। इस पत्र में उन्होंने लिखा था कि वह आज तक निष्ठावान होकर अपने कर्तव्यों का निर्वहन करते आए हैं, क्योंकि उन्हें हमेशा अपने परिवार, खासकर अपनी पत्नी से सहयोग मिलता आया है। लेकिन उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा अब जब पत्नी और बेटी को उनकी जरूरत है तो भी विभाग यह बात नहीं समझ रहा।

छुट्टी मांगने पर भी लगा दी गई ड्यूटी

पत्र में मनीष सोनकर ने लिखा है कि वह एक दिन पहले आए सरकारी फॉलोवर के सहारे बेटी और पत्नी को छोड़ना उचित नहीं समझते। इसलिए उन्होंने एसएसपी से एक से छह मई की छुट्टी मांगी थी। लेकिन फिर भी दो और तीन मई को उनकी ड्यूटी काउंटिंग सेंटर पर लगा दी गई। दो मई को जब छुट्टी मांगी तो एसएसपी ने फॉलोअर के सहारे पत्नी और चार साल की बेटी को छोड़कर ड्यूटी पर आने को कहा तो उन्होंने इस्तीफा भेज दिया।

यह भी पढ़ें : डिप्टी CM केशव प्रसाद मौर्य की स्कॉट का एक्सीडेंट, चार पुलिसकर्मी जख्मी

मनीष के समर्थन में PPS एसोसिएशन

वहीं इस पूरे मामले पर उत्तर प्रदेश पीपीएस एसोसिएशन ने ट्वीट कर पुलिस मुखिया डीजीपी एचसी अवस्थी और अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी को इस मामले का संज्ञाने लेकर उचित कार्रवाई की मांग की है।

SSP ने दी सफाई

इस बारे में जब मीडिया ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक रोहन पी कानय से बात की गई तो उन्होंने कुछ और मामला बताया। उनका कहना है कि मनीष सोनकर ऑफिशियल तौर पर अपने घर में एक सरकारी फॉलोवर रख सकते हैं। हालांकि, वह दो फॉलोवर रख रहे थे और दूसरे का खर्च भी सरकारी खजाने से लेते थे। इसपर रोहन पी कानय ने आपत्ति जताते हुए सरकारी खजाने से भुगतान को रोक दिया था। इसके बाद मनीष ने दूसरा फॉलोवर भेजने की बात कही।

व्हॉट्एप कर दिया इस्तीफा

एक फॉलोवर को उन्होंने चोरी का आरोप लगाकर हटाया और दूसरे को गंदगी फैलाने के आरोप में हटा दिया। दो मई को जब काउंटिंग के दौरान डीएम और एसएसपी झांसी मौके पर पहुंचे, तो मनीष की ड्यूटी लगी होने के बावजूद वह वहां नहीं थे। उनकी फोर्स भी इधर-उधर थी।

यह भी पढ़ें : बलिया: पंचायत चुनाव ड्यूटी के दौरान कांस्टेबल की मौत

ऐसे में उन्हें फोन कर के ड्यूटी पर आने को कहा गया तो मनीष सोनकर ने अपने हाथ से लिखा इस्तीफा पत्र वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को व्हॉट्सएप कर दिया। जो उन्होंने उच्च अधिकारियों को फॉरवर्ड कर दिया है। इसके अलावा, एसएसपी रोहन पी कानय ने यह भी कहा है कि ऑफिस आने पर मनीष सोनकर की छह दिन की छुट्टी को भी स्वीकृति दे दी गई है।

हांलाकि  मंगरवार शाम डीआईजी रेंज जोगिंदर कुमार से बातचीत होने के उपरांत सीओ मनीष सोनकर ने अपना इस्तीफा वापस ले लिया।

-Adv-

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप डेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More