रो रहा है किसान…कैसे कहेंगे हम ‘जय जवान जय किसान’

अगर आप आलू खरीदने जायेंगे तो दाम सुनकर आपको पसीना छूट जायेगा। ऐसा हो भी क्यों नहीं। स्‍टोरेज में रखे हुए इस आलू की कीमत इस समय बढ़कर 50 से 100 रुपये किलो जो पड़ रही है। इसलिए किसान इसे बाजार में बेच नहीं सकता क्‍योंकि खुले बाजार में नया आलू बीस रुपये किलो बिक रहा है।अगर आप ये वीडियो देखेंगे जो आश्चर्य होगा क्योंकि, एक तरफ आसमान छू रहे हैं स्‍टोरेज में रखे हुए आलू के दाम तो दूसरी तरफ सड़कों के किनारे सड़ते और जानवरों द्वारा खाये जा रहे हैं। आपके मन में इस तरह तमाम सवाल उठ रहे होंगे।

किसानों के पास कोल्ड स्टोरेज का किराया देने का भी पैसा नहीं है

दरअसल ये वो आलू है जिसे किसानों ने मजबूरी में कोल्ड स्टोरेज में सड़ने के लिए छोड़ दिया है। पिछले साल जमकर आलू की फसल हुई थी। किसानों ने आलू को कोल्ड स्टोरेज में रख दिया कि अच्छे दामों में बेच सकेंगे लेकिन, इस साल नया आलू आ गया। किसानों के अरमानों पर पानी फिर गया, जिससे किसानों को नुकसान झेलना पड़ा। अब हालत ये है कि किसानों के पास कोल्ड स्टोरेज का किराया देने का भी पैसा नहीं है। किसानों का घाटा और बढ़ गया।

ALSO READ : मैंने इस साल टाइम के ‘पर्सन ऑफ द ईयर’ के प्रस्‍ताव को ठुकरा दिया: ट्रंप

आलू हर सब्जी का बेस है क्योंकि बिना आलू को कोई भी सब्जी मजेदार नहीं लग सकती। लाखों का कर्ज लेकर किसानों ने फसल तो उगा दी लेकिन उनको उनकी मेहनत के बराबर मोल नहीं मिल पा रहा है। किसानों को लागत का एक चौथाई भी नहीं मिल पा रहा है। इतना ही नहीं किसान अब कोल्ड स्टोरेज में भी आलू रखने से कतरा रहे हैं। बड़ा सवाल ये है कि जिस देश में किसानों के लिए ‘जय जवान जय किसान’ के नारे लगाये जाते हैं वहां किसानों की हालत बद से बदतर क्‍यों है?

जबकि किसानों को नहीं मिल कोई लाभ नही पा रहा है

मतलब ये कि आप तो आलू ऊंचे दामों में खरीद रहे हैं लेकिन किसानों को उनकी मेहनत का एक चौथाई भी नही मिल रहा है। पिछले साल आलू की खूब पैदावार हुई जिसके चलते किसानों ने उसे कोल्ड स्टोरेज में ऱख दिया लेकिन अब बाजार में नया आलू आ जाने के कारण किसानों ने आलू को ऐसे ही छोड़ दिया।

जबकि आमतौर पर मीडिया में ऐसी खबरों पर ध्यान नहीं दिया जाता है। आलू की कीमत कोल्‍ड स्‍टोरेज में 50 से 100 रुपये किलो पड़ रहा है इसलिए किसान रो रहा है। लोग आलू की चिप्स खरीदते हैं। वो कंपनियां भी लाभ पा रही हैं जबकि किसानों को नहीं मिल कोई लाभ नही पा रहा है।

हालात रहे तो कैसे कहेगे हम जय जवान जय किसान

आप इस वीडियों में देख कर ही आंदाजा लगा सकते है किसानों को किस हद तक नुकसान हो रहा है। इंसान तरस रहा है और जानवर खा रहे है। आलू सड़ रहा है लेकिन इंसानों तक नहीं पहुंच पा रहा है। वीडियों में आप खुद देख के अंदाजा लगा सकते है । देश में किसानों का दर्जा सबसे ऊपर है। इसलिए कहा भी जाता है कि जय जवान जय किसान। अगर यहीं हालात रहे तो कैसे कहेगे हम जय जवान जय किसान।

(साभार – जी न्यूज)

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)