संकटमोचक बनेगा GOLD, 50000 रुपये प्रति पार जाएगा भाव

ब्याज दरों में कटौती का फायदा GOLD को मिलेगा

0 143

कोरोना के कहर से उत्पन्न संकट के दौर में पीली धातु GOLD में कुछ ज्यादा निखार आने की संभावना दिख रही है, क्योंकि इतिहास बताता है कि देश-दुनिया में जब आर्थिक संकट गहराता है तो निवेशकों के लिए निवेश की पहली पसंद GOLD ही बनता है। बाजार के जानकारों की माने तो निकट भविष्य में भारत में GOLD 50,000 रुपये प्रति 10 ग्राम के मनोवैज्ञानिक स्तर को पार कर सकता है।

कोरोनावायरस के गहराते संकट के चलते शेयर बाजारों में मची उथल-पुथल के बीच GOLD के भाव में भी भारी उतार-चढ़ाव देखा जा रहा है और बीते एक महीने से GOLD का भाव अंतर्राष्ट्रीय बाजार में 1,704 डॉलर से लेकर 1,450 डॉलर प्रति औंस के बीच रहा है। भारत के वायदा बाजार में भी बीते एक महीने में GOLD का भाव 38400 से लेकर 44,961 रुपये प्रति 10 ग्राम के बीच रहा है।

ब्याज दरों में कटौती का फायदा GOLD को मिलेगा

मगर, बाजार विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना संकट से निपटने के प्रयास में अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व समेत कई देशों के केंद्रीय बैंकों ने ब्याज दरों में कटौती की है, जिसका फायदा GOLD को मिलेगा, जिससे आने वाले दिनों में पीली धातु GOLD में जबरदस्त तेजी देखने को मिल सकती है।

इंडिया बुलियन बुलियन एंड ज्वलर्स एसोसिएशन के नेशनल सेक्रेटरी सुरेंद्र मेहता का अनुमान है कि निकट भविष्य में भारत में GOLD का भाव 50,000 रुपये से ऊपर जा सकता है और यह 52,000 रुपये प्रति 10 ग्राम तक के स्तर को छू सकता है।

GOLD संकट का साथी बनता है

उन्होंने कहा कि GOLD संकट का साथी बनता है और जब आर्थिक आंकड़ों में गिरावट आएगी तो सोने के प्रति निवेशकों का रुझान बढ़ेगा।

केडिया एडवायजरी के डायरेक्टर अजय केडिया भी GOLD में जबरदस्त तेजी की उम्मीद करते हैं। उन्होंने कहा कि अक्षय तृतीया पर अगर GOLD 50,000 रुपये के स्तर को नहीं तोड़ पाया तो पहली तिमाही के आखिर में जून तक पीली धातु GOLD का भाव 50,000 रुपये प्रति 10 ग्राम के ऊपर जरूर जा सकता है।

उन्होंने कहा कि “हाल के दिनों में शेयर बाजार में गिरावट के साथ GOLD के भाव में भी गिरावट ठीक उसी प्रकार देखने को मिली, जिस प्रकार 2008 के वैश्विक वित्तीय संकट के दौरान मिली थी। लेकिन उसके बाद GOLD में तेजी आई और 2011 में GOLD रिकॉर्ड ऊंचाई पर जा पहुंचा। कॉमेक्स पर सोना छह सितंबर, 2011 को 1,911.60 डॉलर प्रति औंस तक उछला था।”

सोना रिकॉर्ड ऊंचाई को छू सकता है

कमोडिटी पार्टिशिपेंट्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के पूर्व प्रेसीडेंट वृज सभरवाल ने आईएएनएस से कहा कि सोना इस साल फिर घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय बाजार में रिकॉर्ड ऊंचाई को छू सकता है।

उन्होंने कहा कि घेरलू बाजार में सोना 50,000 रुपये प्रति 10 ग्राम के ऊपर जाएगा, जबकि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में 2,000 डॉलर प्रति औंस तक की ऊंचाई देखने को मिल सकती है। उन्होंने कहा कि सोना इस समय निवेशकों का सुरक्षित साधन है, इसलिए इसकी लिवाली आने वाले दिनों में जोर पकड़ेगी।

इस बीच, सर्राफा कारोबारी देश में कोरोनावायरस के प्रकोप पर लगाम लगने की राह देख रहे हैं, क्योंकि 14 अप्रैल को लॉकडाउन समाप्त होने के बाद जब बाजार खुलेगा तो वे अक्षय तृतीया की तैयारी कर पाएंगे। देश में सोने की खरीदारी के लिए अक्षय तृतीया को शुभ मुहूर्त माना जाता है और हर साल इस अवसर पर लोग आभूषणों की खूब खरीददारी करते हैं। इस बार अक्षय तृतीया 26 अप्रैल को है।

43,381 रुपये प्रति 10 ग्राम पर कारोबार चल रहा

मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज यानी एमसीएक्स पर मंगलवार दोपहर 12.41 बजे सोने के जून वायदे में 43,381 रुपये प्रति 10 ग्राम पर कारोबार चल रहा था। वहीं, चांदी के मई अनुबंध में पिछले सत्र से 179 रुपये की तेजी के साथ 39,977 रुपये प्रति किलो पर कारोबार चल रहा था।

वहीं, अंतर्राष्ट्रीय वायदा बाजार कॉमेक्स पर सोने के जून वायदे में पिछले सत्र से 8.05 डॉलर की कमजोरी के साथ 1,635.15 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार चल रहा था। वहीं, चांदी के मई अनुबंध में पिछले सत्र से 1.14 फीसदी की तेजी के साथ 14.29 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार चल रहा था।

-Adv-

यह भी पढ़ें: Coronavirus : नयी दिल्ली में खुदकुशी करने वाले युवक को नहीं था कोरोना, टेस्ट रिपोर्ट नेगेटिव

यह भी पढ़ें: कोरोना : दिल्ली पुलिस ने एक DCP को ‘वर्क फ्रॉम होम’ करने को कहा

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More