…तो इसलिए नहीं हो सकती है DSP शैलेन्द्र सिंह की बहाली

0 1,322

साल 2004 में माफिया डॉन मुख्तार अंसारी से पंगा लेने वाले तत्कालीन DSP शैलेन्द्र सिंह की बहाली को लेकर सोशल मीडिया पर तेजी से मांग उठ रही है. लोगों का कहना है कि, जब डीएसपी शैलेन्द्र सिंह निर्दोष हैं और उनपर दर्ज सभी मुकदमे योगी सरकार ने वापस ले लिए हैं तो अब सरकार उनकी बहाली करे. लेकिन डीएसपी शैलेन्द्र सिंह की बहाली अब नहीं हो सकती है. इसके पीछे बड़ा कारण है.

नहीं हो सकती है शैलेन्द्र सिंह की बहाली

DSP शैलेन्द्र सिंह को इसलिए बहाल नहीं किया जा सकता है क्योंकि उन्होंने खुद इस्तीफा दिया था. जब कोई खुद इस्तीफा देता है तो भविष्य में उसकी उसकी बहाली नहीं की जा सकती है. वहीं सोशल मीडिया पर जिन लोगों के उदाहरण दिए जा रहे हैं उनके बारे में बता दें कि, आईपीएस दावा शेरपा, बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे और ने वीआरएस लिया था जबकि महाराष्ट्र पुलिस के  असिस्टेंट इंस्पेक्टर सचिन वाझे को निलंबित किया गया था इसलिए उनकी बहाली हो सकती है.

डीएसपी शैलेन्द्र सिंह ने क्यों दिया था इस्तीफा ?

दरअसल, बता दें कि जनवरी, 2004 में यूपी एसटीएफ की वाराणसी यूनिट के प्रभारी डिप्टी एसपी (DSP) शैलेंद्र सिंह ने बीजेपी विधायक कृष्णानंद राय की हत्या से पहले मुख्तार अंसारी के एलएमजी खरीदने का राजफाश किया था। उन्होंने लाइट मशीनगन (एलएमजी) बरामद कर मुख्तार अंसारी के विरुद्ध पोटा भी लगाया था। इस पर तत्कालीन सरकार में हंगामा मच गया और शैलेंद्र सिंह पर मुकदमा वापस लेने के लिए दबाव बनाया जाने लगा। जिसके बाद शैलेंद्र सिंह ने यूपी पुलिस की नौकरी से इस्तीफा दे दिया।

यह भी पढ़ें- पुलिसकर्मियों ने निजी गाड़ी पर लगाया पुलिस का स्टीकर तो होगी सख्त कार्रवाई, जारी किए गए ये निर्देश

डीएसपी ने बताई घटना

DSP शैलेन्द्र सिंह ने फेसबुक पर लिखा है कि,  “2004 में जब मैंने माफिया मुख्तार अंसारी पर LMG केस में POTA लगा दिया था, तो मुख्तार को बचाने के लिए तत्कालीन सरकार ने मेरे ऊपर केस खत्म करने का दबाव बनाया। जिसे न मानने के फलस्वरूप मुझे डिप्टी एसपी पद से त्यागपत्र देना पड़ा था। इस घटना के कुछ महीने बाद ही तत्कालीन सपा सरकार के इशारे पर, राजनीति से प्रेरित होकर मेरे ऊपर वाराणसी में आपराधिक मुकदमा लिखा गया और मुझे जेल में डाल दिया गया। लेकिन जब माननीय योगी जी की सरकार बनी तो, उक्त मुकदमे को प्राथमिकता के साथ वापस लेने का आदेश पारित किया गया, जिसे माननीय सीजेएम न्यायालय द्वारा 6 मार्च, 2021 को स्वीकृति प्रदान की गई। न्यायालय के आदेश की नकल आज ही प्राप्त हुई। मैं और मेरा परिवार योगी जी की इस सहृदयता का आजीवन ऋणी रहेगा। संघर्ष के दौरान मेरा साथ देने वाले सभी शुभेक्षुओं का, हृदय से आभार व्यक्त करता हूं।”

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप डेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More