पृथ्वी शॉ ने किया था इस पदार्थ का सेवन, 8 महीने के लिए सस्पेंड

भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने युवा क्रिकेटर पृथ्वी शॉ को डोपिंग के दोषी पाए जाने के कारण 8 महीने के लिए सस्पेंड कर दिया है। अब पृथ्वी शॉ नवंबर तक प्रतिबंधित रहेंगे।

इस मामले पर बीसीसीआई की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार शॉ ने अनजाने में एक प्रतिबंधित पदार्थ का सेवन कर लिया था, जो आमतौर पर खांसी की दवाई में पाया जाता है।

हालांकि शॉ का सस्पेंशन बीते मार्च से लागू होगा यानि उनका ये सस्पेंशन 16 मार्च 2019 से 15 नवंबर 2019 तक लागू रहेगा।

पाया गया यह पदार्थ-

बीसीसीआई के अनुसार पृथ्वी शॉ ने इंदौर में 22 फरवरी 2019 को सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी मैच के दौरान बीसीसीआई के डोपिंग रोधी परीक्षण कार्यक्रम के दौरान यूरिन सैंपल दिया था।

उनके नमूनों में ‘टर्ब्यूटलाइन’ पदार्थ की मात्रा पाई गई है। यह पदार्थ विश्व डोपिंग रोधी एजेंसी (वाडा) की प्रतिबंधित दवाओं की सूची में शामिल है।

बयान में कहा गया कि 16 जुलाई 2019 को शॉ को बीसीसीआई के डोपिंग रोधी नियमों (एडीआर) के अनुच्छेद 2.1 के अंतर्गत डोपिंग रोधी नियम उल्लंघन (एडीआरवी) का दोषी पाया गया और उन्हें आरोप की जांच होने तक अस्थायी रूप से प्रतिबंधित किया गया।

शॉ ने मानी गलती-

शॉ ने अपने ऊपर लगे आरोपों को माना लेकिन कहा कि उन्होंने अनजाने में इस पदा​र्थ का सेवन किया चूंकि उन्हें खांसी थी और इसके लिए उन्होंने जो दवाई ली थी उसमें प्रतिबंधित पदार्थ के अंश थे जिससे वो अनजान थे।

यह भी पढ़ें: आम्रपाली ग्रुप के साढ़े छह करोड़ के घपले में धोनी का नाम आया सामने

यह भी पढ़ें: विराट के बाद रोहित ने किया अनुष्का को ‘अनफॉलो’, इस बात को लेकर पड़ी दरार

 

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)