Atal Bihari Vajpayeeji

अब 21 अगस्त को लखनऊ लाया जाएगा अटल जी का अस्थी कलश

भारत रत्न और पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी जी का अस्थिकलश लखनऊ आने का कार्यक्रम स्थगित हो गया है। कुछ अपरिहार्य कारणों से अस्थिकलश अब 21 अगस्त को लखनऊ लाया जाएगा। इस संबंध में बाजेपी के एमएलसी विजय पाठक ने ट्वीट करके जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि प्रदेश के सभी जिला मुख्यालय पर 25 अगस्त को और सभी मंडल इकाइयों में 27 व 28 अगस्त को श्रद्धांजलि सभाएं आयोजित की जाएगी।

ये था पहले का कार्यक्रम…

बता दें कि पहले के कार्यक्रम के मुताबिक, स्व. वाजपेयी के 18 अस्थिकलश लेकर बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्रनाथ पांडेय और कैबिनेट मंत्री आशुतोष टंडन को अपराह्न 3 बजे अमौसी एयरपोर्ट पहुंचना था। इस मौके पर राज्यपाल राम नाईक, सीएम योगी आदित्यनाथ सहित पूरी योगी कैबिनेट की मौजूदगी संभावित थी।

Also Read :  अखिलेश के होटल निर्माण पर हाइकोर्ट ने लगाई रोक

जानकारी के अनुसार, अमौसी एयरपोर्ट से अस्थिकलश यात्रा कृष्णानगर, अवध चौराहा, सिंगार नगर, आलमबाग चौराहा, टेढ़ी पुलिया, मवैया, चारबाग, बांसमंडी, लालकुआं के रास्ते से होते हुए महाराणा प्रताप चौराहा, बर्लिंगटन चौराहा, बापू भवन की ओर से बीजेपी ऑफिस पहुंचेगी, जहां अस्थिकलशों को लोगों के दर्शनार्थ के लिए रखा जाएगा।

वाजपेयी जी के अस्थि कलश लखनऊ आने का कार्यक्रम स्थगित

वहीं इस मामले में प्रदेश बीजेपी मीडिया विभाग के आलोक अवस्थी ने बताया कि ‘आज भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री श्रद्धेय अटल बिहारी वाजपेयी जी के अस्थि कलश लखनऊ आने का कार्यक्रम अपरिहार्य कारणों से स्थगित हो गया है। अगली तिथि की सूचना आपको सूचित की जायेगी।’

Also Read : अटलजी की अस्थियां विसर्जित करने के लिए परिजन पहुंचे हरिद्वार

आपको बता दें कि पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी का लंबी बीमारी के बाद गुरुवार को निधन हो गया था। बाजपेयी जी का निधन 93 साल की उम्र में हुआ और दिल्‍ली के एम्‍स में उन्होंने आखिरी सांस ली। अटल बिहारी को बीती 11 जून से यूटीआई इंफेक्शन, लोवर रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट इंफेक्शन और किडनी संबंधी बीमारियों के कारण दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया था, जहां उनकी मुत्यु हो गई।

उत्तर प्रदेश के 22 शहरों की नदियों में अस्थियां विसर्जित

अटल जी का उत्तर प्रदेश से बहुत गहरा लगाव था इसलिए सरकार ने उनकी स्मृतियों को भी सहजने का काम करेगी। इसी के तहत बाजपेयी जी की अस्थियों को उत्तर प्रदेश के 22 शहरों की नदियों में विसर्जित किया जाएगा। साथ ही चार शहरों लखनऊ, कानपुर, आगरा और बलरामपुर में अटल जी के स्मारक बनाए जाएंगे।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)