modi

राजा कभी गल्ती नहीं करता!!

अनिल कुमार उपाध्‍याय

नरेन्द्र मोदी अब भारत के प्रधानमंत्री ही नहीं, बल्कि एक प्रकार से जनता के दिल और दिमाग पर राज करने वाले राजा बन चुके हैं। इंगलैंड में एक कहावत है, किंग कैन डू नो रांग, 2019 की सरकार में अब शायद ही मीडिया उनकी आलोचना करेगी, सारे मीडिया घराने और पत्रकार कम प्रबन्ध मैनेजर अब एक पक्षीय सूचना प्रवाह का ही काम करेंगे जो उनके और सरकार के हित रक्षण का काम करेगा।

अब देश में एक मजबूत एकता दिखेगी, भले ही वह भय या लाभ की वजह से ही क्यों न बनी हो। लोकतंत्र के नाम पर बनी संस्थायें केवल दिखावा मात्र की ही लोकतांत्रिक रह जायेंगी। सबसे बड़ा संकट तो अब लोकतंत्र की दुहाई देने वाले भाजपा के अन्दर ही दिखेगी, कौन है जो अटल जी की तरह मोदी जी को राज धर्म का पालन करने की हिदायत देने की हिम्मत करेगा?

ये भी पढ़ें: विपक्ष गौर करे, पार्टी व्यक्ति से बड़ी होती है या देश…

विगत पाँच साल में अच्छे दिन या अच्छी रात आयी या नहीं आयी, किसान की आय दुगनी हुयी या नहीं हुयी, धारा 370 कश्मीर से क्यों नहीं हटा? पूर्ण बहुमत के बाद भी श्री राम का मंदिर क्यों नहीं बना, क्या ये सब करने से अभी भी नेहरू जी या राजीव गांधी ही आपको रोक रहे हैं और हाशिये पर आ गयी कांग्रेस ही अब भी आपको काम नहीं करने दे रही है, ये सब बहाने अब जनता शायद नहीं सुनेगी।

प्रधान सेवक जी,जनता ने सोने का ताज अपने राजा जिसे वो भगवान मानती है, उसके सिर पर रख दिया है, यदि रिजर्व बैंक सहित देश के तमाम बैंकों सहित देश की अर्थव्यवस्था नहीं सुधरी और युवाओं को पकौड़ा उद्योग के अतिरिक्त अन्य रोजगार के अवसर नहीं मिले, तो बड़े जनादेश के रूप में मिला स्वर्ण मुकुट आपके लिए काँटों का ताज बन जायेगा और जनता यह भूल जायेगी कि राजा कोई गलती नहीं करता।

(ये लेखक के निजी विचार हैं)