बड़ी खबर: योगी सरकार ने लॉकडाउन लगाने का किया फैसला, इस दिन लगेगा लॉकडाउन…

0 1,143

उत्तर प्रदेश सरकार ने कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए बड़ा ऐलान किया है. सरकार ने रविवार को लॉकडाउन लगाने का फैसला किया है. रविवार को सभी सरकारी और निजी दफ्तर बंद करने के आदेश दिए गए हैं. इसके साथ ही जरूरी सेवाओं को छूट दी गई है. सरकार ने कहा है कि, कोरोना की चेन को तोड़ने के लिए ये कदम उठाया गया है. रविवार को पूरी तरह से लॉकडाउन का ऐलान किया गया है. इस दौरान पूरे राज्य में सैनिटाइजेशन का काम होगा.

मास्क न लगाने पर देना होगा 10 हजार जुर्माना

इसके अलावा पहली बार मास्क ना लगाने वालों पर सख्ती करते हुए एक हजार रुपये का जुर्माना लगाने जाने का आदेश भी जारी किया गया है. पहली बार पकड़े जाने पर एक हजार का जुर्माना लगाया जाएगा. दोबारा बिना मास्क के पकड़े जाने पर 10 हजार रुपये वसूला जाएगा.

12वीं तक के स्कूलों में 15 मई तक अवकाश, परीक्षाएं भी नहीं होंगी

उन्होंने कहा कि प्रदेश के किसी भी जिले में न तो किसी जरूरी दवा की कमी होने दी जाएगी, न ही कोविड और नॉन कोविड मरीजों के लिए बेड का अभाव होगा। उन्होंने सभी जिलों में हर दिन की बदलती परिस्थिति को देखते हुए हर जरूरी इंतजाम करने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए। कोविड के खतरे से बच्चों को सुरक्षित रखने की दिशा में एक बड़ा कदम उठाते हुए सीएम ने कहा कि 12वीं तक के स्कूलों में 15 मई तक अवकाश रखा जाए, माशिप की बोर्ड परीक्षाएं भी 20 मई के बाद ही हों। सीएम ने कहा कि कोविड के पहले दौर को जबकि यह हमारे लिए नया संकट था, तब भी इस पर काबू पाया था, इस बार दूसरी लहर पर भी जल्द ही नियंत्रण होगा। लेकिन इसके लिए जरूरी है कि सभी नागरिक मास्क, सैनिटाइजर और सोशल डिस्टेंसिंग जैसे कोविड प्रोटोकॉल का कड़ाई से अनुपालन करें। यही नहीं, बेहतर होगा कि लोग इस प्रोटोकॉल को अपनी जीवनशैली में शामिल कर लें। लोगों को इस संबंध में जागरूक किया जाए।

यह भी पढ़ें- सीएम योगी का आदेश, पंचायत चुनावों में लगे कार्मिकों को मास्क, ग्लब्स और सैनिटाइजेशन की पर्याप्त सुविधाएं

लखनऊ में डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल की तादाद बढ़ाएं: समीक्षा बैठक में सीएम योगी ने कहा कि राजधानी लखनऊ में अन्य जनपदों के मरीजों का आगमन स्वभाविक है। अतः यहां अतिरिक्त व्यवस्था करने की आवश्यकता है। ऐसे में केजीएमयू और बलरामपुर हॉस्पिटल को डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल के रूप में तैयार किया जाए। यह कार्य चरणबद्ध ढंग से हो। साथ ही, नॉन कोविड मरीजों की सुविधा का पूरा ध्यान रखा जाए। उन्होंने कहा कि लखनऊ में टीएस मिश्र हॉस्पिटल, इंटीग्रल और हिन्द मेडिकल कॉलेजों को डेडिकेटेड कोविड हॉस्पिटल के रूप में क्षमता विस्तार किए जाने की आवश्यकता है।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप डेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More