योगी और मायावती पर EC की कार्रवाई, चुनाव प्रचार पर लगी रोक

चुनाव आयोग ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती को बड़ा झटका दिया है। अपने भाषणों में आपत्तिजनक बयान देकर आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करने के लिए यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) प्रमुख मायावती पर चुनाव अयोग ने सख्त कार्रवाई की है। ​

चुनाव आयोग ने अपने भाषणों में आचार संहिता का उल्लंघन करने के लिए कल सुबह 6 बजे से शुरू होने वाले चुनाव प्रचार से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को 72 घंटे (तीन दिन) और बीएसपी प्रमुख मायावती को 48 घंटे (दो दिन) के लिए प्रतिबंधित किया।

आयोग की बड़ी कार्रवाई-

चुनाव आयोग ने कल सुबह 6 बजे से शुरू होने वाले चुनाव प्रचार को प्रतिबंधित कर दिया। इस प्रतिबंध के चलते अपनी-अपनी पार्टी के स्टार प्रचारक योगी और मायावती कोई रैली या रोड शो नहीं कर सकेंगें। साथ ही किसी जनसभा को भी संबोधित नहीं कर सकेंगे। अयोग ने इंटरव्यू और बाइट देने पर भी रोक लगा दी है।

योगी पर EC का शिकंजा-

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 11 अप्रैल को मेरठ की एक रैली के दौरान ‘अली’ और ‘बजरंगबली’ पर टिप्पणी की ​थी। सीएम योगी ने लोकसभा चुनावों की तुलना इस्लाम में अहम शख्सियत ‘अली’ और हिंदू देवता ‘बजरंगबली’ के बीच मुकाबले से की थी। यूपी के सीएम ने कहा कि अगर कांग्रेस, सपा, बसपा को अली पर विश्वास है तो हमें भी बजरंग बली पर विश्वास है।

मायावती ने की थी मुस्लिम वोट की मांग-

बसपा सुप्रीमो मायावती ने मुस्लिमों से सपा-बसपा गठबंधन को वोट देने की अपील की थी। उन्होंने सीधे मुसलमानों को संबोधित करते हुए वोट की अपील करते हुए कहा था कि मुस्लिम समुदाय कांग्रेस के झांसे में न आए और बीजेपी को हराने के लिए गठबंधन (सपा-बसपा-आरएलडी) के उम्मीदवारों को ही वोट दें।

यह भी पढ़ें: मुस्लिम वोट की मांग पर मायावती को EC का नोटिस

यह भी पढ़ें: ‘अली-बजरंगबली’ वाले बयान में फंसे योगी, EC ने मांगा जवाब

 

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)