SInha

यशवंत सिन्हा ने गुजरात दौरें पर जमकर किया अरुण जेटली पर हमला..

पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा तथा भाजपा के बागी नेता ने मोदी सरकार को हिटलरशाही करार दिया, तीन दिन के दौरें पर गुजरात पहुचें  पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने नोटबन्दी और जीएसटी को लेकर एक बार फिर से मोदी सरकार को निशाना बनाया। मौजूदा वित्त मंत्री अरुण जेटली को वह गुजरात पर ‘बोझ’ मानते हैं, जीएसटी को लागू करने में गड़बड़ी और इस मामले पर उन्होंने एक मुहावरा सरकार को कसा ‘चित मैं जीता, पट तुम हारे’ की तर्ज पर बर्ताव कर रहे। यशवंत सिन्हा का कहना है, अरुण जेटली अगर कुर्सी छोड़ दे यहीं जनता के लिए हितकर होगा।

Also Read:  फ़िल्मी स्टाइल में बैंक की लूट, 25 फुट लंबी सुरंग खोदा    

लोगो के लिए जताया दुःख

देश में कारोबारी सुगमता यानी इज ऑफ डूइंग बिजनेस के मामले में विश्व बैंक की रिपोर्ट में भारत की स्थिति में सुधार का उन्होंने स्वागत किया और कहा कि यह प्रत्येक भारतीय के लिए गर्व की बात है। देश के बाहर की वाहवाही को स्वीकार करने वाले हम लोग देश के अंदर से होने वाली आलोचना को खारिज कर देते हैं। हमे ज्यादा से ज्यादा इस बात की अधिक चिंता करनी चाहिए कि दुनिया की तुलना में भारत के लोग हमारे बारे में क्या सोचते हैं। तो उनकी जगह किसी गुजराती को मौका मिला होता, उन्होंने जेटली के लिए कहा, ‘मैं वित्त मंत्री को गुजराती नहीं मानता। वह गुजरात से राज्यसभा के लिए चुने गए होंगे पर वे आप सब पर एक  बोझ की तरह हैं। अगर वह नहीं चुने जाते तो उनकी जगह किसी गुजराती को मौका मिला होता। जानकारी के लिए बता दे, अरूण जेटली गुजरात से साल 2012 में राज्यसभा के लिए चुने गए थे। फिलहाल गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा के प्रभारी भी हैं।

 

जीएसटी को खूब लताड़ा

कथित तौर पर कांग्रेस समर्थित एक एनजीओ लोकशाही बचाओ आंदोलन के आमंत्रण पर गुजरात में चुनावी माहौल के बीच अहमदाबाद, राजकोट और वडोदरा में देश की आर्थिक स्थिति पर बोलने के लिए आए यशवंत सिन्हा ने कहा कि जीएसटी एक बेहतर कर प्रणाली है पर इसे गलत तरीके से लागू किया गया है। जेतली इसमें सभी गड़बड़ी के लिए जिम्मेदार है और इसके जरिए उन्होंने देश पर एक बहुत ही गलत ढंग वाली कर प्रणाली थोप दी है और अब इसमें अस्थाई अथवा तदर्थ अंदाज में बदलाव कर ‘चित मैं जीता पट तुम हारे’ की नीति पर चल रहे हैं। एेसे में देश और देश की जनता को उनको पद से हटाने की मांग करने का पूरा हक है।

 Also Read:  कार्यकर्ताओं से पैर दबवा रहे हैं योगी सरकार के मंत्री, देखें पूरा विडियो…

जीएसटी को बताया अराजक   

इस दौरान यशवंत सिन्हा ने जीएसटी के मौजूदा स्वरूप में बदलाव के लिए कई सुझाव भी दिए। एक प्रश्न के उत्तर में सिन्हा ने यह भी स्वीकार किया कि मोदी के गुजरात सीएम रहते जीएसटी का विरोध किया था और राज्य के तत्कालीन वित्त मंत्री सौरभ पटेल का यह बयान कि इससे गुजरात को नौ हजार करोड का नुकसान होगा अब भी संसदीय कार्यवाही की रिकार्ड में है। उन्होंने यह भी कहा कि नोटबंदी और जीएसटी ने देश की अर्थव्यवस्था और जीडीपी को काफी नुकसान पहुंचाया है, जिसकी वजह से आज हमारे देश महंगाई अनियंत्रित हो चुकी है।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)