World kidney day 2019 special story know about everything

Interview: कहीं आप किडनी रोग की चपेट में तो नहीं हैं…

आज 14 मार्च को अंतरराष्ट्रीय किडनी दिवस है। हर साल मार्च महीने के दूसरे गुरुवार को विश्व किडनी दिवस मनाया जाता है जिसका मकसद लोगों को शरीर के इस महत्वपूर्ण अंग के प्रति सचेत और जागरूक करना है। एक स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में दो किडनियां होती हैं।

विश्व किडनी दिवस आज:

आमतौर पर एक किडनी खराब हो जाने पर भी एक किडनी के सहारे व्यक्ति जी सकता है लेकिन एक किडनी पर बहुत सारा बोझ पड़ने के कारण इसके फेल होने के खतरे बढ़ जाते हैं। इसीलिए देश में 13 साल पहले विश्व किडनी दिवस की शुरुआत की गई लेकिन आज की भागदौड़ भरी जिंदगी और खानपान के असंतुलन से जाने-अन्‍जाने इस अंग को बीमारियों ने घेर लिया है। यहीं से दूसरे रोग भी पनप रहे हैं। लाखों लोग बीमारियों से जूझ रहे हैं लेकिन एक्सपर्ट का मानना है कि अगर इंसान संतुलित दिनचर्या अपनाए तो किडनी की बीमारियों से बचा जा सकता है।

प्रमुख लक्षण

शरीर में सूजन आना, भूख कम लगना, उलटी आना, जी मिचलाना, कमजोरी महसूस होना, कम आयु में उच्च रक्तचाप होना इत्यादि इस रोग के मुख्य लक्षण है। क्रोनिक किडनी फेल्योर होने के दो मुख्य कारण डायाबिटीज (मधुमेह) और उच्च रक्तचाप हैं।

लखनऊ में उपलब्‍ध है विश्‍वस्‍तरीय इलाज

अगर आप किडनी के मरीज हैं और आपको विश्वस्तरीय इलाज चाहिए तो इसकी सुविधा अब राजधानी लखनऊ में हो गई है। जी हां जाने माने डॉक्टर आर के शर्मा के नेतृत्व में मेदांता मेडिक्लिनिक में किडनी के मरीजों का कम पैसे मे अच्छी इलाज की सुविधा की गई है।

डॉ. आरके शर्मा जाने-माने नेफ्रोलाजिस्‍ट हैं

डॉ. आरके शर्मा ने 1987 में एडीशनल प्रोफेसर के तौर पीजीआई ज्‍वाइन कि‍या था। इसके बाद साल 1993 में उन्‍होंने नेफ्रोलॉजी वि‍भाग के प्रमुख की कमॉन संभाली। अपने कार्यकाल के दौरान डॉ. आरके शर्मा डीन से लेकर, चि‍कि‍त्‍सा अधीक्षक, हॉस्पिटल रि‍वॉल्‍वि‍ग फंड रि‍सर्च के प्रभारी, रि‍सर्च विंग के चेयरमैन, परचेज कमेटी के चेयरमैन, गर्वर्निंग बॉडी के सदस्‍य के तौर पर काम कर चुके हैं। इनके कार्यकाल में ही नेत्र वि‍भाग, नि‍योनेटल मेडि‍सि‍न, इमर्जेंसी मेडि‍सि‍न की शुरूआत हुई। अब रिटायरमेंट के बाद यूपी और उससे सटे आस-पास के प्रदेशों की सेवा के लिए डॉ. आरके शर्मा लखनऊ मेदांता मेडिक्लिनिक के डॉयरेक्टर और नेफ्रोलॉजी‍ विभाग के प्रमुख के तौर पर काम कर रहे हैं।

गुर्दे में पथरी के लक्षण

– दर्द, बुखार, उल्टी, पेशाब में खून आना व जलन होना है।

किडनी कैंसर के लक्षण

-दर्द, पेट के बाजुओं में भारीपन, बुखार व पेशाब में खून आना है।

किडनी फैल होने लक्षण

– उल्टी या उबकाई आना, चेहरे और पैरों पर सूजन, पेशाब की कमी

किडनी की बीमारी से कैसे हो बचाव

1. खूब पानी पीयें
2. फल और जूस पीएं
3. बेरीज खायें, ब्‍लूबेरी, ब्‍लैकबेरी का सेवन जरूर करें
4. सुबह उठकर वॉशरूम जरूर जाएं

इन चीजों से रहें दूर

1. धूम्रपान, तम्बाकू व शराब, सॉफ्ट ड्रिंक्स
2. नमक का अधिक सेवन न करें

अन्य नुकसानदेह आदतें

-देर तक भूखे न रहें
-दूषित भोजन न करें
-हाईपरटेंशन का इलाज कराएं
-बहुत ज्यादा मांस खाने से बचें
-किडनी संक्रमण से ऐसे पाएं छुटकारा
-वजन पर काबू रखें
-मैग्नीशियम का सेवन करें
-नियमित व्‍यायाम अवश्‍य करें

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं)