बुजुर्गों पर कैसे आफत बनकर टूट रहा है Corona ?

0 134

कोरोना Corona वायरस की दहशत से पूरी दुनिया कांप रही है। सुपर पावर अमेरिका से लेकर फ्रांस, स्पेन और इटली जैसे विकसित देश बेबस नजर आ रहे हैं। 2 महीने गुजर जाने के बाद भी एक्सपर्ट कोरोना Corona की काट नहीं खोज पाए हैं। सोशल डिस्टेंसिंग सबसे कारगर कदम बताया जा रहा है। यही कारण है कि पीएम नरेंद्र मोदी भी लॉकडाउन पर जोर दे रहे हैं। कोरोना की बात करें तो इसकी गिरफ्त में सबसे ज्यादे बुजुर्ग लोग आ रहे हैं। कोरोना को लेकर हुए अध्ययन में यह बात सामने आई है कि बुजुर्गों के लिए यह ज्यादा जानलेवा साबित हो रहा है। पूरी दुनिया में जितने लोगों की मौत अभी तक कोविड-19 के चलते हुई है, उनमें से ज्यादातर बुजुर्ग हैं।

यह भी पढ़ें : उत्तर प्रदेश सरकार ने Corona को राज्य आपदा घोषित किया

Corona रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होना कारण

बुजुर्गों पर इस वायरस के प्रभाव का प्रमुख कारण रोग प्रतिरोधक क्षमता में कमी आना प्रमुख है। जानकारों के मुताबिक 60 साल के बाद आदमी में रोग से लड़ने की क्षमता कम होने लगती है। ऐसे में जब इस तरस के वायरस शरीर में प्रवेश करता है तो तेजी से विकसित होता है। इसकी स्पष्ट तौर पर दो वजह सामने आई हैं। पहली तो ये कि उम्रदराज लोगों में प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है, इसलिए वायरस आसानी से उनपर हावी हो जाता है। इसके अलावा आमतौर पर वरिष्ठजन कई तरह की बीमारियों की चपेट में भी होते हैं जैसे शुगर, बीपी और दिल की बीमारी। उसपर वायरस का हमला वह झेल नहीं पाते। ऐसे में यह बेहद जरूरी हो जाता है कि हम अपने बड़े बुजुर्गों का खास ख्याल रखें।

यह भी पढ़ें : क्या है Corona से निपटने का सिंगापुर मॉडल

इटली में Corona बुजुर्गों पर आफत

वैसे तो पूरी दुनिया में कोरोना Corona आफत बनकर टूट रहा है। लेकिन इटली में कोरोना ने तबाही मचा रखी है। अब यहां पर प्राथमिकता के आधार पर लोगों का इलाज हो रहा है। मसलन इटली में कुछ सप्ताह पहले 90 साल के बुजुर्गों का इलाज हो रहा था लेकिन अब हालत बिगड़ने पर अब 55 साल तक के लोगों को बचाने की कोशिश की जा रही है। 60 साल से ज्यादा के लोगों घर में ही रहने की सलाह दी जा रही है। फ्रांस और इटली सरकार बुजुर्गों को इंफेक्शन से बचाने के लिए स्वास्थ की सारी सुविधाएं घर पर ही उपलब्ध करा रही है। हर किसी को बॉडी टेम्परेचर पर नजर रखने को कहा जा रहा है लेकिन बुजुर्गों को इसको लेकर ज्यादा सचेत रहने की जरूरत है। तामपान पर निगरानी रखें और फ्लू का हल्का सा भी लक्षण दिखने पर डॉक्टर को तुरंत बताएं।

-Adv-

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More