जानिए इतिहास मे पहली बार कब लगा था लॉकडाउन

0 1,348

आपको ये जान के हैरानी होगी कि लॉकडाउन का इतिहास बरसो पुराना है. कई ऐसी आपातकालीन सिचुएशन थी जब लॉकडाउन और Quarantine का इस्तेमाल ज़रूर किया गया है. जैसे की : प्लेग, स्पेनिश फ्लू मे भी दुनिया मे लॉकडाउन का इस्तेमाल करना पड़ा था.

कोरोना ने पूरे विश्व को लॉकडाउन मे रहना सिखा दिया है. और ये लॉकडाउन का कांसेप्ट हम सब के लिए नया है. कई पीढ़ियों के लिए ये लॉकडाउन बहुत नई चीज़ है. लेकिन ऐसा नहीं है. इतिहास को अगर पलट कर अगर देखा जाए तो ये दुनिया का पहला लॉकडाउन नहीं है. लॉकडाउन का कांसेप्ट दुनिया मे नेचुरल और man-made disasters से बचने के लिए किया जा चूका है.

लॉकडाउन

यह भी पढ़ें : इस बीमारी के लिए बनी थी पहली वैक्सीन, इन्हें लगा था पहला टीका

आइये इतिहास मे पन्नो के बीच छिपे लॉकडाउन की कहानी से हम रूबरू होते है.

Plague of Justinian से हुई थी शुरुआत

एक विख्यात सभ्यता  का अंत तब हुआ जब Plague of Justinian की शुरुआत हुई. प्लेग का नाम उस समय के Byzantine के राजा (AD 527-565) के नाम के आगे रखा जाता है. विश्व मे bubonic plague की शुरआत इसी सदी से होती है. राजा के बीमार पड़ते ही इस बीमारी ने अपना कहर पूरे साम्राज्य पे बरपाना शुरू कर दिया था. कई शोधकर्ता इस पर भी हामी भरते है कि उस समय ये बीमारी 5000 लोगों की मौत का करण बनी थी. उस समय से लॉकडाउन को अस्तित्व मे लाया जाता है. इस प्रोसेस मे अश्स्वस्थ लोगों को अलग रखा गया और स्वस्थ लोगों को अलग.

लॉकडाउन

तब हुआ था सबसे पहला Lockdown और Quarantine

यूरोप मे 1346-1353 के बीच जब प्लेग ने पूरे कॉन्टिनेंट को अपने हाथों मे जकड लिया था तब लॉकडाउन का सहारा लिया गया था. उस समय भी सबसे प्रभावित देश इटली ही था जिसने सबसे पहले लोगों के मोवमेंट पे अंकुश लगाना शुरू किया था. इटली मे सबसे पहले वेनिस मे लगा था लॉकडाउन.

यह भी पढ़ें : इतिहास के पन्नो से निकली ‘मास्क’ की कहानी

स्पेनिश फ्लू मे भी लगाई गई थी ऐसी पाबंदियां

स्पेनिश फ्लू के समय मे यानी 20th Century मे ऐसे ही वायरस से मुक्ति पाई गई थी. उस समय पहला वर्ल्ड वर खत्म हुआ था और सैनिकों के ज़रिये ये बहुत फैला. वायरस सैनिकों, कारखाने के श्रमिकों और परिवहन के सार्वजनिक साधनों का उपयोग करने वाले लोगों में आसानी से फैल गया। भले ही अधिकारियों द्वारा सुरक्षित उपायों की एक नीति तैयार की गई थी, लेकिन इसने कभी भी दिन के उजाले को नहीं देखा क्योंकि सरकार ने जनता को खतरे में नहीं डालने के लिए इसे लपेटकर रखा था। इसने कथित तौर पर बड़े समारोहों से बचने और घर के अंदर रहने की बात कही। वायरस के बारे में व्यापक रूप से प्रचारित गलत सूचना यह है कि यह स्पेन में उत्पन्न हुआ था, लेकिन तथ्य यह था कि यह पहला देश था जिसने इसके साथ मृत्यु की सूचना दी थी।

लॉकडाउन

लॉकडाउन ने अपने इतिहास को 2020 मे दोहराया

इतिहास की एक झलक देखने के बाद ये तो तय है कि लॉकडाउन की कहानी हम सब से पुरानी हो सकती है. कोरोना ने लोगों को अपने घरों मे रहना सिखा दिया. अब देखना ये होगा  कि आखिर कब हमें इस लॉकडाउन से मुक्ति मिलेगी.

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप डेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More