कट्टरपंथी मुसलमानों को वासिम रिजवी की सलाह- तिरंगे झंडे से करनी होगी मोहब्बत

उत्तर प्रदेश शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने स्वतंत्रता दिवस के अपने संदेश में चांद तारे वाले हरे झंडे को फहराने से मना किया है। उन्होंने हरे रंगे के झंडे की जगह अपने देश का तिरंगा झंडा फहराने की अपील की है।

वसीम रिजवी ने कहा कि हिंदुस्तान के कट्टरपंथी मुसलमानों को यह तय करना होगा कि उन्हें हिंदुस्तान के तिरंगे झंडे से मोहब्बत कर उसे बुलंद करना है या फिर इस्लामिक झंडा को।

हरे झंडे को इस्लामी बताने वाले गद्दार-

उन्होंने कहा कि हरे झंडे को इस्लामी झंडा बताने वाले देश के गद्दार हैं। हरे रंग का चांद तारे वाला झंडा पाकिस्तान का है।

आगे कहा कि जो लोग हरे रंग के झंडे को अपने मदरसों, अपने घरों में लगाते है और जूलुसों में लेकर चलते हैं, वो लोग देश के गद्दार हो सकते हैं लेकिन हिंदुस्तानी मुसलमान नहीं हो सकते।

तिरंगे झंडे से करनी होगी मोहब्बत-

शिया वक्फ बोर्ड अध्यक्ष ने कहा कि ऐसे लोगों को हिंदुस्तान में रहना है तो उन्हें तिरंगे झंडे से मोहब्बत करनी होगी।

उन्होंने कहा कि राष्ट्रगान को गाना होगा। इसके लिए हम लोगों ने सुप्रीम कोर्ट में एक रीट याचिका दायर कर रखी है कि हिंदुस्तान में चांद तारा वाला झंडा नहीं फहर सकता है। जिस पर जल्द फैसला होने वाला है।

यह भी पढ़ें: भारत में कट्टरपंथी मुस्लिमानों के साथ मिलकर काम कर रही ISIS : वसीम रिजवी

यह भी पढ़ें: मैं पहला मुसलमान जो राम मंदिर निर्माण संघर्ष में जेल जाएगा : रिजवी

 

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)