विराट कोहली बनना चाहतें हैं T-20 में परमानेंट ओपनर, क्या है कप्तान की प्लानिंग ?

0 415

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली शानदार टाइमिंग के चलते अपनी मनमर्जी वाले शॉट इत्मिनान से खेलतें हैं। यह उनकी एक बड़ी ताकत है। इंग्लैंड के खिलाफ टी20 सीरीज में विराट कोहली सबसे ज्यादा रन बन बनाने वाले (231 रन) बल्लेबाज बनें।

इसके बाद उन्होंने एक भी पल नहीं गंवाया ये कहते हुए कि भविष्य के लिए टी20 को लेकर उनकी निजी योजना क्या है। कोहली की दलील थी रोहित शर्मा के साथ वो टी20 वर्ल्ड कप में दूसरे ओपनर की भूमिका निभाना चाहते हैं।

उनका मानना है कि अगर दोनों बल्लेबाज सेट हों तो किसी भी आक्रमण को बखियां उधेड़ सकते हैं। अब कोहली तो कप्तान हैं और अगर उन्होंने ये ठान लिया तो उन्हें मना तो कोई करेगा नहीं। कम से कम कोच रवि शास्त्री तो नहीं ही ये तकल्लुफ उठायेंगे।

साथ ही कोहली ने ये भी कह दिया कि इस सीज़न वो अपनी आईपीएल टीम रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के लिए भी ओपनर बनेंगे। कोहली पहले भी बीच-बीच में इस भूमिका में नज़र आ चुके हैं लेकिन अब उन्होंने इस रोल को पूरी तरह से अपनाने की घोषणा कर दी है।

कोहली के ओपनर बनने से किसको होगा फायदा?

Kohli

जब भारत के लिए कोहली और रोहित के ओपनर बनने की चर्चा सामने आयी तो हर किसी ने करीब 15 साल पहले बेहद कामयाब फॉर्मूले सचिन तेंदुलकर और सौरव गांगुली की जोड़ी का वन-डे क्रिकेट में सफल अभियान का उदाहरण दिया।

सुनील गावस्कर जैसे दिग्गज भी इसको शानदार प्लान बताया। लेकिन, अच्छे से अच्छे जानकार अब भी यही सोचते हैं कि टी20 फॉर्मेट वन-डे क्रिकेट का छोटा प्रारूप है लेकिन हकीकत इससे बिलकुल जुदा है।

वनडे से अलग है टी-20-

Virat-Kohli

ये तो ठीक 1970-80 के दशक वाली उस थ्योरी की तरह है जहां वन-डे क्रिकेट को टेस्ट क्रिकेट का छोटा रूप मान लिया गया था। वन-डे क्रिकेट में एक ओपनर पहली 20-25 गेंदें खुद को जमने के लिए आराम से दे सकता क्योंकि वो पारी (300 गेंद) का 10 फीसदी हिस्सा भी नहीं होती है।

लेकिन, टी20 में तो हर गेंद से मैच का रुख पलट जाता है और 12 गेंदें तो पारी का 10 फीसदी हिस्सा होती हैं। ऐसे में किसी बल्लेबाज़ को 20-25 तो क्या 10-12 गेंद भी जमने के लिए टीमें नहीं दे सकती है। ऐसा क्रिस गेल जैसे खिलाड़ी के संदर्भ में अपवाद है क्योंकि वो बाद में छक्कों की बरसात करते हुए शुरुआती धीमी चाल का टीम पर असर नहीं पड़ने देते हैं।

कोहली को रोहित की भी सुननी चाहिए-

इस बाबत टीम के उप-कप्तान रोहित शर्मा का कहना था कि अभी टी20 वर्ल्ड कप में काफी वक्त है और अभी से ओपनर के बारे में एक ठोस राय नहीं बनायी जा सकती है। उनका मानना था कि आखिरी टी20 मैच में केएल राहुल की बजाए कोहली का ओपन करना एक मैच के लिए रणनीति में बदलाव के तौर पर ही देखा जाना चाहिए।

रोहित के इस बयान से साफ है कि सबसे ज़्यादा 5 मौके पर कप्तान के तौर पर आईपीएल ट्रॉफी जीतना इत्तेफाक नहीं है। शायद रोहित ये कहना चाहते हों कि राहुल को वक्त दिया जाना चाहिए।

कोहली 2013 से आरसीबी की कप्तानी कर रहे है। यह टीम कभी भी चैंपियन नहीं बनी है तब भी कोहली की कप्तानी को लेकर चर्चा तक नहीं होती है। लेकिन, टीम इंडिया के लिए कोहली की नाकामी इतनी आसानी से कभी भी नजरअंदाज नहीं की जा सकती है।

यह भी पढ़ें: टेस्ट में इस बार ऑस्ट्रेलियाई टीम मुश्किलें खड़ी करेगी : विराट कोहली

यह भी पढ़ें: बल्लेबाजों की टेस्ट रैंकिंग में स्टीव स्मिथ के करीब पहुंचे विराट कोहली

-Adv-

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप डेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More