पुलिसकर्मियों की मौत से दुखी था विकास दुबे, मरने से पहले खोला राज…

0 8,729

बिकरु कांड का मास्टरमांइड और गैंगस्टर विकास दुबे उज्जैन से कानपुर के सफर के बीच एक बार भी झपकी नहीं ली। पकड़े जाने के बाद से ही वो टेंशन में था।

इस सफर में विकास से यूपी एसटीएफ ने कई सवाल किए। जिनके जवाब देते वक्त उसके चेहरे पर कोई शिकन नहीं थी।

यूपी एसटीएफ से पूछताछ के बीच विकास दुबे ने कई मददगारों के नाम उजागर किए थे। उन्होंने कहा था कि 50 से ज्यादा पुलिसवालों ने उसकी अब तक मदद की है।

सीओ से चिढ़ता था विकास-

विकास ने कानपुर, उन्नाव और लखनऊ के कई नेताओं के नाम लिए। उसने दिवंगत सीओ देवेंद्र मिश्र से अपनी चिढ़ का राज भी खोला। कहा कि सीओ उसे हद में रहने की बात करते थे।

लेकिन वह चाहता था कि उसके गांव, आसपास के इलाके और थाने पर सिर्फ उसका ही राज चले। पुलिस का दखल मुझे पसंद नहीं था।

विकास ने यही बात उज्जैन में भी पूछताछ के दौरान कही थी। बताया कि सीओ उसे लंगड़ा कहते थे। मेरे क्षेत्र में मुझे ऐसा कोई कैसे कह सकता था। इसलिए सोच रखा था कि इसे निपटाऊंगा।

अन्य पुलिस वालों की मौत पर विकास ने जताया था पाश्चाताप-

सीओ से चिढ़ थी, अन्य पुलिसवालों का क्या दोष था? इस सवाल के जवाब में विकास ने पाश्चाताप जताया। उसने कहा कि गुस्से में इतना बड़ा कांड हो गया।

लेकिन इतनी बड़ी कार्रवाई हो जाएगी, इसका भी अंदाजा नहीं था। उसे लग रहा था कि उसके ‘खास लोग’ उसे बचा लेंगे। रास्ते में वह कई बार खुद पुलिसवालों से पूछता रहा कि आगे क्या करने वाले हैं।

विकास को लगता था कि पुलिस उसे जेल भेजेगी। इसीलिए वह मुतमईन था कि वह कुछ माह या सालभर में जमानत पर जेल से बाहर आ जाएगा।

यह भी पढ़ें: विकास दुबे के आखिरी 12 घंटे : पूरी रात जागता रहा गैंगस्टर, किए गए बड़े खुलासे, कहा- गुस्से में हो गया बिकरु कांड

यह भी पढ़ें: मीडिया पर भड़की गैंगस्टर विकास की पत्नी, बोली- अब मैं बंदूक उठाऊंगी !

-Adv-

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप हेलो एप्पडेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More