वाराणसी : प्रमुख घाट बाढ़ की चपेट में, बदला गया गंगा आरती का स्थान

उत्तर प्रदेश में प्रमुख नदियों के निकटवर्ती निचले क्षेत्रों के लोगों को बाढ़ का सामना करना पड़ रहा है।

योगी ने लिया हालात का जायजा-

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बलिया जिले में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया और अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे बाढ़ पीड़ितों को हरसंभव सहायता उपलब्ध कराएं।

वाराणसी में भी गंगा खतरे के निशान की तरफ तेजी से बढ़ रही है। बलिया जिले में दुबे छपरा में टूटे रिंग बंधा के बाद दशा और खराब हो गई है।

गंगा अभी भी जिले में खतरे के निशान से उपर बह रही है। रामगढ़ इलाके में हजारों लोग पलायन कर ऊंची जगहों पर चले गए हैं।

तमाम लोग अपने मकान खुद उजाड़कर सड़क पर गुजर-बसर करने के लिए पहुंच गए हैं। लोग अपने उन रिश्तेदारों के घर पहुंच गए, जिनके इलाके में बाढ़ नहीं आया है।

बदला गंगा आरती का स्थान-

वाराणसी में सभी प्रमुख घाट बाढ़ की चपेट में हैं और गंगा आरती का स्थान बदल दिया गया है।

प्रदेश में लगभग सभी प्रमुख नदियां उफान पर हैं और खतरे के निशान से ऊपर या उसके करीब बह रही हैं।

गंगा, यमुना, बेतवा, चंबल, घाघरा और शारदा नदियों ने हमीरपुर, बांदा, बलिया, औरेया, प्रयागराज, फैजाबाद, बाराबंकी, गोंडा, वाराणसी और आगरा जिलों के निचले इलाकों को अपनी चपेट में ले लिया है।

बिजली गिरने और वर्षा जनित अन्य दुर्घटनाओं में प्रदेश में पिछले 24 घंटों में 17 लोगों की जान चली गई।

यह भी पढ़ें: पुलिस का मानवीय चेहरा, गर्भवती को कंधे पर उठाकर पहुंचाया अस्पताल

यह भी पढ़ें: सरदार सरोवर बांध का जलस्तर बढ़ा, कई जिलों में हाई अलर्ट

 

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)