यूपी : 49568 कांस्टेबल भर्ती के चयनित अभ्यर्थियों ने सोशल मीडिया पर सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा

0 714

उत्तर प्रदेश नागरिक पुलिस एवं पीएसी में सिपाही के पदों पर सीधी भर्ती 2018 के चयनित अभ्यर्थियों ने मेडिकल परीक्षण और ट्रेनिंग में देरी होने को लेकर प्रदेश की योगी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

सोशल मीडिया पर अभ्यर्थी मेडिकल परीक्षण और ट्रेनिंग में देरी होने को लेकर जमकर विरोध दर्ज करा रहे है। ट्विटर पर #upp49568पुलिसभर्ती के साथ हजारों ट्वीट किए जा चुके है और लगातार ट्वीटस की संख्या बढ़ रही है।

अभ्यर्थियों की मांग है कि ट्रेनिंग चार चरणों की बजाय दो चरणों में समाप्त कराई जाए। अभ्यर्थी अपने ट्वीट में सीएम योगी, सीएम ऑफिस और यूपी पुलिस को टैग करते हुए कह रहे हैं कि उन्हें परीक्षा दिए दो साल से ज्यादा समय बीत चुका है।

अब अगर चार चरणों में ट्रेनिंग कराई जाती है तो उन्हें 2022 में जाकर नियुक्ति मिलेगी। दो चरणों में ट्रेनिंग करवाकर ज्वॉइनिंग दी जानी चाहिए। कुछ अभ्यर्थियों ने हैश टैग #upp49568_में_शेष_35568_की_नियुक्ति_एकसाथ के साथ ट्वीट कर रहे है।

अभ्यर्थियों की मांग है कि छह महीने में नियुक्ति देने का वादा किया गया था लेकिन अगर चार चरणों में ट्रेनिंग हुई तो 2022 आ जाएगा। शेष बचे 35568 (सिविल व पीएसी) अभ्यर्थियों को एक साथ ट्रेनिंग दी जाए।

यह भी पढ़ें: यूपी पुलिस में शुरू होगी 56,808 सिपाहियों की भर्ती

यह भी पढ़ें: पुलिस बनी किडनैपर, फिरौती में मांगे एक करोड़ रुपए

-Adv-

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More