dawa

भगवा की जद में आई प्रधानमंत्री जन औषधि योजना

सब भगवा कर देंगे…जी हां चौंकिए नहीं जनाब, प्रदेश में हाल फिलहाल में आ रही खबरों से तो ऐसा ही लग रहा है। अभी तक आपने प्रदेश में इमारतों, सड़कों, बसों और स्कूलों, शौचालयों के भगवाकरण(saffron) की खबरें देखीं और सुनी होंगी लेकिन अब दवाओं पर भी यहीं रंग चढ़ गया है। लगता है भाजपा सरकार ने सब भगवा करने की ठान ली है।

मतलब तो समझ ही रही होंगे आप

दरअसल भारत सरकार के तहत मिलने वाली जेनरिक दवाओं (medicines) पर भगवा छाप दिखाई दे रहा है। लोगो में लिखा है- प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना। अगर इस लोगो पर गौर करें तो इसे संक्षिप्त करने पर भाजप होता है। इतना ही नहीं इन तीनों अक्षरों को भगवा रंग में लिखा गया है। जबकि बाकी के अक्षरों को नीले रंग से लिखा गया है। जबकि प्रधानमंत्री शब्द को पढ़ने के लिए आपको खासी मशक्कत करनी पड़ेगी। मतलब तो समझ ही रही होंगे आप।

Also Read :  सेल्फी के दीवानों ने तो ‘अस्थि कलश स्थल’ को भी नहीं छोड़ा

प्रधानमंत्री जन औषधि योजना का मकसद लोगों को सस्ती दवा उपलब्ध कराना है। यह केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं में से एक है। यह योजना अपना रोजगार शुरू करने का भी अवसर देती है।

अब इसे दूसरे लोगों के लिए भी खोल दिया गया है।

जन औषधि केंद्र खोलने में सरकार की तरफ से लोगों को करीब 2.5 लाख रुपये का अनुदान दिया जा रहा है। जन औषधि केंद्र के लिए बी-फार्मा और एम-फार्मा पास युवाओं को मौके दिए जाएंगे। हालांकि, अब इसे दूसरे लोगों के लिए भी खोल दिया गया है।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)