…तो ‘चांद’ से टक्कर की वजह से धरती पर आया सोना!

जिस सोने के आभूषण आप और हम इतनी खुशी से पहनते हैं वह धरती पर आया कहां से? इस सवाल का जवाब ढूंढने के लिए वैज्ञानिकों ने कई अध्ययन किए और इसको लेकर कई अवधारणाएं मौजूद हैं। लेकिन एक नए अध्ययन के बाद एक और दावा किया गया है। स्टडी की माने तो पृथ्वी के निर्माण के शुरुआती समय में ही इससे एक चांद के आकार का भूमंडलीय पिंड टकराया, जिसकी वजह से धरती पर सोना और प्लैटिनम जैसे बहुमूल्य धातु पहुंचे।

also read : ‘लव जिहाद’ पर हत्या कर जलाने के विडियो पर बवाल, इंटरनेट बंद, देखें वीडियों

अध्ययन करने वाली टीम के मुताबिक इस टक्कर के बाद पृथ्वी पर आने वाले धातुओं की मात्रा पहले के अनुमानों से ज्यादा है और इसके प्रभावों ने पृथ्वी को गहराई से बदल दिया। ग्रहों के टकराव हमारे सौर मंडल के गठन के मुख्य हिस्सा रहे हैं। वैज्ञानिक लंबे समय तक ऐसा मानते रहे हैं कि चांद के निर्माण के बाद, पृथ्वी ने अपनी रचना के शुरुआती समय में लंबे समय तक पिंडों से टकराव के बाद धमाके झेले हैं। यह धमाके 3.8 अरब साल पहले बंद हुए थे।

यह स्टडी नेचर जियोसाइंस जर्नल में छपी है

इस समय को ‘लेट अक्रीशन’ कहा गया है। इस दौरान चंद्रमा के आकार वाले बड़े भूमंडलीय पिंडों से टकराव की वजह से व्यापक रूप में धातु और चट्टान बनाने वाले खनिज धरती की सतह और आंतरिक भाग में पहुंचे। ऐसा माना जाता है कि धरती के मौजूदा भार का 0.5 प्रतिशत हिस्सा इन टकरावों की वजह से धरती पहुंची चीजों की वजह से है। नए अध्ययन से पता लगता है कि कैसे भयानक टक्करों की वजह से धरती पर धातु पहुंचा। नासा की मदद से साउथवेस्ट रिसर्च इंस्टिट्यूट और यूनिवर्सिटी ऑफ मैरीलैंड के शोधकर्ताओं ने यह अध्ययन किया है। यह स्टडी नेचर जियोसाइंस जर्नल में छपी है।

(साभार – एनबीटी)

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)