UPPSC की 20 हजार भर्तियों की जांच के लिए CBI ने दी सहमति

अखिलेश यादव की नेतृत्व वाली समाजवादी पार्टी की सरकार में यूपी लोक सेवा आयोग (यूपीपीएससी) के माध्यम से हुई 20 हजार भर्तियों की जांच सीबीआई करेगा। योगी सरकार ने इस मामले में केंद्र सरकार से सिफारिश की थी, जिसपर सीबीआई ने अपनी सहमति दे दी है।

धांधली का आरोप लगाते हुए लंबा आन्दोलन भी चलाया था

सीबीआई जांच के दायरे में 1 मार्च 2012 से लेकर 31 मार्च 2017 के बीच हुई करीब 20 हजार भर्तियां हैं। इसमें पीसीएस से लेकर डॉक्टर और इंजीनियर तक के पद शामिल थे। इलाहाबाद में छात्रों ने भर्तियों में बड़े पैमाने पर हुए धांधली का आरोप लगाते हुए लंबा आन्दोलन भी चलाया था।

also read : ‘लव जिहाद’ पर हत्या कर जलाने के विडियो पर बवाल, इंटरनेट बंद, देखें वीडियों

सीबीआई जल्द ही इस मामले में एफआईआर दर्ज करेगी। गौरतलब है कि यूपीपीएससी के अध्यक्ष पद पर अनिल यादव की तैनाती पर खासा कोहराम भी मचा था। उन पर आरोप लगे थे वे पद के लिए योग्य नहीं थे। इतना ही नहीं पुलिस ने उन पर कई मुकदमें भी दर्ज थे।

जुड़े करीब 700 मामले आदालतों में लंबित हैं

यह भी आरोप लगा था कि उनकी नियुक्ति राजनीतिक आधार पर हुई थी। बाद में मामला हाईकोर्ट पहुंचा और उन्हें पद से हटना पड़ा। यह भी आरोप लगा है कि आयोग में नियमों को टाक पर रखकर भर्तियां की गई। परीक्षा केंद्र तय करने में मनमानी की गई। भर्ती से जुड़े करीब 700 मामले आदालतों में लंबित हैं।

(साभार- न्यूज 18)

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)