teacher protest

जानिये, क्‍यों महिला शिक्षकों ने लखनऊ में मुंड़वाया सिर..

पूरे देश में बुधवार को शिक्षक दिवस मनाया जा रहा है। एक तरफ जहां सरकार शिक्षकों का सम्मान कर रही है तो दूसरी तरफ उनकी उपेक्षा कर रही है। इसी उपेक्षा का शिकार हो रहे वित्त विहीन शिक्षकों ने बुधवार को यूपी की राजधानी लखनऊ में हजरतगंज (Hazratganj) स्थित गांधी प्रतिमा के पास प्रदर्शन किया।

पुलिस प्रशासन ने हिरासत में लेकर जबरन हटा दिया

इस दौरान कई महिला शिक्षकों ने अपना सिर मुंडवा कर विरोध दर्ज किया। शिक्षकों ने भीख मांग करऔर मुंडन करा कर प्रदर्शन किया। इस दौरान प्रदर्शन कर रहे शिक्षकों को पुलिस प्रशासन ने हिरासत में लेकर जबरन हटा दिया।

गांधी प्रतिमा पर मुंडन कराकर और भीख मांग कर प्रदर्शन किया

बता दें कि मानदेय को लेकर मंगलवार से वित्तविहीन शिक्षक प्रदर्शन कर रहे थे। अपने पूर्वनिर्धारित कार्यक्रम के अनुसार वे बुधवार को भी प्रदर्शन कर रहे हैं। सरकार की ओर से लगातार हो रही अनदेखी से नाराज शिक्षकों ने गांधी प्रतिमा पर मुंडन कराकर और भीख मांग कर प्रदर्शन किया। वित्तविहीन शिक्षक महासभा’ के बैनर तले ये एकजुट हुए थे।

Also Read :  यहां पत्नियों के जीते जी पति कर रहे हैं उनका अंतिम संस्‍कार

प्रदर्शनकारियों ने योगी सरकार पर मानदेय बंद किए जाने का आरोप लगाते हुए जमकर नारेबाजी की। शिक्षक विधायक उमेश द्विवेदी ने बताया कि शिक्षक समाज को आइना दिखाता है और ईमानदारी का पाठ पढ़ाता है, उसका मानदेय यह कहकर योगी सरकार ने बंद कर दिया कि यह शिक्षकों को एक प्रकार से दी जाने वाली भीख थी।

योगी सरकार से अपनी भीख वापस लेकर रहेंगे

मानदेय बंद होने से लाखों शिक्षकों और उनके परिवारवालों के सामने भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गयी है। उनके लिए योगी सरकार कुछ नहीं कर रही है। उन्होंने कहा कि हम योगी सरकार से अपनी भीख वापस लेकर रहेंगे।

वित्तविहीन शिक्षकों की प्रमुख मांगें वित्तविहीन शिक्षकों और कर्मचारियों को समान कार्य का समान वेतन, सहायता प्राप्त विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों का विनियमितीकरण, शिक्षकों एवं कर्मचारियों की पुरानी पेंशन योजना की बहाली, 135 विद्यालयों को अनुदान, वित्तविहीन विद्यालयों में कार्यरत प्रत्येक कर्मचारी को बीमा एवं ईपीएफ देने के साथ दुर्घटना में शिक्षकों की मृत्यु होने पर 20 लाख रुपये की सुविधा आदि हैं।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)