ये हैं असल जिंदगी का टारजन, देखें वीडियों

अभी तक आपने टीवी, फिल्मों में ही टारजन देखा होगा, लेकिन एक इस टारजन को देख के आप हैरान रह जायेंगे। वो असम का टारजन है। बाल बच्चों वाला शादीशुदा टारजन हैं। काम करता है। लंबेकद के टारजन में कई लोगों की ताकत है। लेकिन बस वह कपड़ों से कोसों दूर भागता है।

also read : अफवाहों पर ध्यान न दें दर्शक : दीपिका

टारजन असम के वेस्ट किरबी अंगलांग जिले के एक पहाड़ी गांव में रहता है। सामान्य जिंदगी गुजारता है। लेकिन लोग उसे सामान्य इसलिए नहीं मानते क्योंकि उसे कपड़ों से सख्त परहेज है।चाहे जो हो जाए लेकिन कपड़े नहीं पहनने। ऐसा नहीं कि लोगों ने कोशिश नहीं की कि टारजन गांव में कपड़े पहनकर आए लेकिन उसको ये मंजूर नहीं।

जहां वह आरामदायक जीवन गुजारता है

बरसों से ऐसी सारी कोशिश नाकाम होती रही है। उसकी उम्र तीस के पार है। पूरा गांव ही उसे टारजन कहता है, हालांकि उसका एक नाम भी है, ये है ओंग बे।ओंग बे आंगलांग जिले के छोटे से पहाड़ी गांव डेरा आरलोक में रहता है। लेकिन गांव की बस्ती से दूर पहाड़ के करीब बने एक बड़ी सी झोपड़ी में। जहां वह आरामदायक जीवन गुजारता है।

also read : अमित शाह के इलाके से शुरू होगा ‘घर-घर कांग्रेस’ अभियान

वह सामान्य लोगों से ज्यादा लंबा है। और हट्टा-कट्टा। गांव के लोग बताते हैं कि टारजन में दूसरे लोगों की तुलना में कहीं ज्यादा ताकत है। लेकिन वह शांतिप्रिय है। लोगों के साथ उठता बैठता है। उसके अपने खेत हैं। जहां वह खेती करता है। फसल उगाता है।

ये शर्त होती है कपड़ा पहनकर आने की

अपने बाल बच्चों का पेट पालता है। वैसे उसके कपड़ा नहीं पहनने की सनक के चलते लोग उन्हें दिमागी तौर कुछ असंतुलित मानते हैं लेकिन जो भी उससे बात करता है, उसे लगता नहीं कि वह कहीं से ऐसा है। टारजन गांव में लोगों से मिलता जुलता है और उसकी इच्छा वहां शादी बारात और समारोहों में जाने की भी होती है लेकिन उसके सामने एक ऐसी शर्त रख दी जाती है कि वह मनमसोस कर रह जाता है और उधर रुख ही नहीं करता। ये शर्त होती है कपड़ा पहनकर आने की।

(साभार-न्यूज 18 यूट्यूब)

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)