राहत पैकेज के बावजूद सेंसेक्स 600 अंक टूटा

कमजोर विदेशी संकेतों से टूटा घरेलू बाजार

0 300
मुंबई : भारतीय Stock मार्केट में आज नरमी का रूख रहा। राहत पैकेज की घोषणा के बावजूद, कोरोना के कहर से निजात पाने की संभावना निकट भविष्य में धूमिल दिखाई देने व वैश्विक बाजार में आई कमजोरी के चलते गुरूवार को फिर भारतीय Stock में गिरावट आई सेंसेक्स आरंभिक कारोबार के दौरान करीब 600 अंक टूटा और निफ्टी भी 9200 के नीचे तक लुढ़का।

मार्केट की रौनक लौटी थी

ज्ञात हो कि केंद्र सरकार द्वारा 20 लाख करोड़ रुपये के बड़े आर्थिक पैकेज के एलान से बुधवार को घरेलू शेयर Stock मार्केट की रौनक लौटी थी और जोरदार लिवाली से सेंसेक्स 637 अंक चढ़कर 32000 के ऊपर बंद हुआ था। निफ्टी भी 187 अंक यानी दो फीसदी से ज्यादा की बढ़त के साथ 9383 के ऊपर बंद हुआ था। कोरोनावायरस के संक्रमण के संकट से देश की अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए सरकार ने 20 लाख करोड़ रुपये के बड़े पैकेज की घोषणा की है, जिससे भारतीय शेयर Stock मार्केट में दो दिनों की गिरावट के बाद बुधवार को तेजी लौटी थी।

अर्थव्यवस्था में कमजोरी बनी रहेगी

अमेरिकी केंद्रीय बैंक के चेयरमैन जेरोम पॉवेल ने इस बात से आगाह किया है कि कोरोना महामारी के चलते वैश्विक अर्थव्यवस्था में कमजोरी आगे भी बनी रहेगी।

Stock मार्केट में सेंसेक्स सुबह 9.59 बजे पिछले सत्र से 494.70 अंकों यानी 1.55 फीसदी की गिरावट के साथ 31,513.91 पर कारोबार कर रहा था। वहीं निफ्टी 130.90 अंकों यानी 1.39 फीसदी की गिरावट के साथ 9252,65 पर बना हुआ था।

कुछ को छोड़ सभी शेयर गिरे

बंबई Stock एक्सचेंज के 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले सत्र से 542.28 अंकों की गिरावट के साथ 31466.33 पर खुला और 31344.50 तक लुढ़का।

नेशनल Stock एक्सचेंज के 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी भी पिछले सत्र के मुकाबले 169.60 अंकों की गिरावट के साथ 9213.95 पर खुला और 9197 तक गिरा।

यह भी पढ़ें: रोजगार को लेकर क्या है सीएम योगी की प्लानिंग?

यह भी पढ़ें: सीएम योगी का आदेश, 30 जून तक न होने दें कोई सार्वजनिक कार्यक्रम

-Adv-

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप हेलो एप्प इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More