नाथूराम गोडसे पैदा नहीं करते मदरसे : आजम खान

समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान ने मदरसों में शिक्षा प्रणाली में कंप्यूटर और गणित को शामिल कर उन्हें मुख्यधारा में लाने के फैसले पर विवादस्पद बयान दिया। उन्होंने कहा कि मदरसों की प्रकृति नाथूराम गोडसे या प्रज्ञा सिंह ठाकुर जैसे लोगों नहीं पैदा करने वाली नहीं है।

केंद्र सरकार अगले 5 साल में अल्पसंख्यक समुदाय के 5 करोड़ छात्रों को छात्रवृत्ति देने की योजना जुलाई से शुरू करेगी। इसके अलावा मदरसों में कंप्यूटर, गणित और विज्ञान जैसे विषय भी पढ़ाए जाएंगे।

आजम खान ने कहा कि मदरसों में धार्मिक शिक्षाएं दी जाती हैं। बहुत ही मदरसों में अंग्रेजी, हिंदी और गणित पढ़ाया जाता है। यह हमेशा किया गया है।

उनका कहना है कि यदि आप मदद करना चाहते हैं तो उनके मानक में सुधार करें। मदरसों के लिए भवन बनाएं, उन्हें फर्नीचर और दोपहर के भोजन की सुविधा प्रदान करें।

समाजवादी नेता ने सरकार की इस योजना को लेकर सख्त दिखाई दिए वहीं कई मुस्लिम मौलवियों ने इसका स्वागत किया है। इस योजना की घोषणा कल केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने की थी।

यह भी पढ़ें: अमित शाह को 2024 में प्रधानमंत्री बनाने की तैयारी!!

यह भी पढ़ें: नरेंद्र मोदी, राहुल गांधी या अखिलेश यादव, यूपी में आगे कौन?

 

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)