शिवपाल ने ‘भगवान हनुमान’ के जाति प्रमाण पत्र के लिए किया आवदेन

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के भगवान हनुमान (Hanuman) को दलित बताये जाने वाले बयान पर सियासत थमने का नाम नहीं ले रही है। घमासान में प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के सरंक्षक शिवपाल यादव भी कूद पड़े हैं। दरअसल, वाराणसी में शिवपाल यादव की पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी की तरफ से जिला प्रशासन को हनुमान का जाति प्रमाण पत्र बनाने के लिए आवेदन किया गया है।

hanuman

दरअसल, राजस्थान चुनाव प्रचार के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा दिए गए बजरंगबली की जाति वाले बयान के बाद विपक्षी पार्टियां इस मुद्दे पर हमलावर हैं। इसी कड़ी में वाराणसी में प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के बैनर तले दर्जनों लोगों ने जिला प्रशासन के पास जाति प्रमाण पत्र बनवाने का आवेदन किया है। ये आवेदन हनुमान जी के नाम से है।

Also Read :  रैली से पहले हुंकार, कौन कहता हैं शिवपाल अकेला हैं..

आवेदन में मां का नाम अंजनी और पता विश्व विख्यात संकट मोचन मंदिर बताया गया है। आवेदन में हनुमान जी की उम्र अमर और अनंत बताई गई है। साथ ही व्यवसाय वाले कॉलम में उन्हें समाजसेवी बताया गया है। जाति प्रमाण पत्र जारी करने की वजह आरक्षण बताई गई है।

आवेदन रिसीव कराने के बाद सभी का कहना है कि बीजेपी जाति की राजनीति कर रही है। अब उसको जवाब उसके अंदाज में दिया जाएगा। गौरतलब है कि सीएम योगी आदित्यनाथ ने चुनाव प्रचार के दौरान बजरंगबली को दलित बताते हुए उन्हें वनवासी बताया गया था।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)