SC ST bharat bandh against 13 point roster, train stopped

आदिवासियों के भारत बंद का दिखने लगा असर, रोकी गयी ट्रेन

आदिवासी संगठनों ने आरक्षण में 13 पॉइंट रोस्टर (13 Point Roster ) व्यवस्था के खिलाफ मंगलवार को भारत बंद का आह्वान किया गया है। भारत बंद को कम्युनिस्ट संगठनों के अलावा संविधान बचाव संघर्ष समिति, बामसेफ, भारत मुक्ति मोर्चा, भीम आर्मी, राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग मोर्चा, ओबीसी महासंघ और बहुजन क्रांति मोर्चा समेत तमाम संगठनों ने बंद का समर्थन किया है। बता दें कि आदिवासियों ने जंगल से उन्हें बेदखल करने के फैसले के खिलाफ भी बंद का आह्वान किया है।

गंगा गोमती एक्सप्रेस ट्रेन को सपा कार्यकर्ताओं ने रोकाः

वहीं इस भारत बंद का प्रभाव भी दिखना शुरू हो गया है। इसी कड़ी में उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने प्रयागराज से लखनऊ जाने वाली गंगा गोमती एक्सप्रेस ट्रेन को रोक दिया। लखनऊ में काम करने वाले कई कामकाजी लोग इस ट्रेन का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन ट्रेन रोकने के बाद अवस्था की स्थित हो गयी है।

ये भी पढ़ें: 5 मार्च को भारत बंद, तेजस्वी यादव का मिला समर्थन

क्या है 13 प्वाइंट रोस्टर, जिसका हो रहा विरोध:

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने विश्वविद्यालयों में नियुक्ति के लिए विश्वविद्यालय के बदले विभाग को मानक मानने का फैसला किया। सरकार ने इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील की। मगर सुप्रीम कोर्ट ने हस्तक्षेप से इंकार कर दिया। इसके बाद विपक्ष के साथ ही सहयोगी दलों लोजपा, आरपीआई और अपना दल ने इस मामले में पीएम से हस्तक्षेप की मांग की। सहयोगी दलों की यह भी मांग थी कि पुराना 200 प्वाइंट रजिस्टर लागू करने के लिए कानून लाया जाए।

13 प्वाइंट रोस्टर पर अध्यादेश लाने की तैयारी में सरकार

इसके अलावा 13 सूत्रीय रोस्टर पर मचे विवाद के बीच सरकार इस पर अध्यादेश लाने की तैयारी में है। बताया जा रहा है कि मोदी सरकार की अंतिम कैबिनेट बैठक में सात तारीख़ को इस पर फैसला हो सकता है। इसके तहत एससी, एसटी और ओबीसी को विश्वविद्यालयों में फ़ैकल्टी में भर्ती के लिए आरक्षण डिपार्टमेंट के बजाए यूनिवर्सिटी के आधार पर दिया जाएगा।

ये भी पढ़ें: बालाकोट एयर स्ट्राइक पर दिग्विजय सिंह का सवाल, PM बताएं झूठा कौन?

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाईकोर्ट के 2017 के फ़ैसले को बहाल रखा था, जिसमें आरक्षित पदों को भरने के लिए डिपार्टमेंट को यूनिट माना गया था न कि यूनीवर्सिटी को। इस मामले में सरकार की रिव्यू पीटिशन को भी सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया था।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं)