Sachin

विपक्ष के जोरदार हंगामे के कारण राज्य सभा में चुप रह गए सचिन तेंदुलकर

भारत रत्न और पूर्व भारतीय क्रिकेटर सचिन तेंडुलकर आज पहली बार संसद भवन में भाषण देने वाले थे, लेकिन संसद की कार्यवाही 22 दिसंबर को 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। उन्हें राज्य सभा में सचिन ‘राइट टू प्ले’ पर बोलना था, लेकिन वह भाषण की शुरुआत करते इससे पहले ही विपक्ष ने हंगामा शुरू कर दिया। विपक्ष लगातार मनमोहन सिंह के मुद्दे पर हंगामा कर रहा है।

Also Read: बेरोजगारों के लिए खुशखबरी…मिलेंगी 10 लाख सरकारी नौकरी

हंगामे के बीच वेंकैया नायडू ने विपक्ष से अपील की
हंगामे के बीच राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने लगातार विपक्ष से अपील की, जो व्यक्ति बोल रहा है वह भारत रत्न है। इसे पूरा देश देख रहा है। कृपया शांत हो जाइए। आपके चिल्लाने से कुछ होगा नहीं, लेकिन विपक्ष नहीं माना। अंत में कार्यवाही 1 दिन के लिए स्थगित कर दिया गया। सचिन वाइफ अंजलि के साथ राज्य सभा पहुंचे थे।

Also Read: शीतकालीन सत्र के दौरान राज्यसभा में गर्म रहा पीएम मोदी के माफी मांगने का मुद्दा

सचिन 348 दिनों में 23 दिनों तक सदन में रहे

सचिन को राज्य सभा में 2012 में सांसद मनोनीत किया गया था। उसके बाद से 348 दिनों की कार्यवाही में वह 23 दिनों तक सदन में रहे हैं। उनके और बॉलिवुड ऐक्ट्रेस रेखा की गैरमौजूदगी पर लगातार सवाल उठते रहे। जानकारी के अनुसार रेखा की सदन में मौजूदगी सचिन से भी कम है 18 दिन है।

Also Read: भीख मांग रहा बुजुर्ग निकला करोड़पति, आधार कार्ड से खुला राज़

100 इंसेंचुरी का वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम रखने वाले सचिन

100 इंटरनैशनल सेंचुरी का वर्ल्ड रेकॉर्ड अपने नाम रखने वाले सचिन को देश में खेल और खिलाड़ियों को लेकर व्यवस्था, ओलिंपिक की तैयारियों और किस तरह भारतीय खिलाड़ी दुनियाभर में अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं, सहित कई मुद्दों पर बोलना था। रिपोर्ट के अनुसार सचिन ने राज्य सभा सांसद के तौर पर हाल ही में महाराष्ट्र के गांव दोंजा को गोद लिया है। उन्होंने हाल ही में इस गांव का दौरा भी किया था और गांव को सांसद निधि कोष से 4 करोड़ रुपये देने की घोषणा भी की थी। आदर्श सांसद ग्राम योजना के तहत यह सचिन का दूसरा गांव था।

साभार: ( नवभारत टाइम्स )

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)