फ्लोर टेस्ट पास होने के बाद बोले उद्धव, मैं मैदान में लड़ने वाला आदमी

महाराष्ट्र विधानसभा में बहुमत परीक्षण पास करने के बाद सीएम उद्धव ठाकरे ने अपने ही अंदाज में विपक्ष पर जोरदार हमला बोला।
30 सालों तक सहयोगी पार्टी रही बीजेपी के वॉकआउट पर तंज कसते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा कि मैं अब तक मैदान में लड़ने वाला आदमी रहा हूं।

लेकिन यहां जो व्यवहार देखा, उससे लगा कि मैदान ही सही था।
उद्धव ठाकरे ने कहा कि सरकार का समर्थन करने के लिए मैं विधायकों का आभार व्यक्त करता हूं।

उद्धव ठाकरे ने हमला बोला

बीजेपी की ओर से मंत्रियों की शपथ को गलत करार देने और संविधान के नाम की शपथ न लिए जाने के आरोप पर भी उद्धव ठाकरे ने हमला बोला।
उन्होंने कहा कि हमारा कोई विरोध नहीं है। हमने यदि सभी महापुरुषों का नाम लेकर शपथ ली तो आखिर क्या गलत है।
मैं बार-बार इस तरह से शपथ लूंगा।
उन्होंने कहा कि छत्रपति शिवाजी महाराज या बाबा साहेब आंबेडकर के नाम की शपथ लेना गलत है।

मतभेद रखने की बात हुई

बीजेपी पर हमला बोलते हुए उद्धव ने कहा कि मतभेद सभी के होते हैं, लेकिन यहां गलत तरीके से मतभेद रखने की बात हुई।
नए सीएम ने कहा, ‘यह महाराष्ट्र की संस्कृति नहीं है। क्रांतिकारी, समाज सुधारकों और साधुओं का यह महाराष्ट्र है।
जिनकी शपथ लेकर हमने यह काम संभाला है, उन्हें हमारे कार्यों पर गौरव हो, हमें इस तरह से काम करना है।’

169 वोटों से विश्वास मत (फ्लोर टेस्ट) हासिल

विधानसभा के विशेष सत्र में शनिवार को महाराष्ट्र विकास अघाड़ी (शिवसेना-राकांपा और कांग्रेस) सरकार ने 169 वोटों से विश्वास मत (फ्लोर टेस्ट) हासिल कर लिया।
कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण ने सदन में प्रस्ताव पेश किया।
भाजपा ने इस सत्र पर सदन में आपत्ति जताई और विश्वास मत से पहले उसके 105 विधायकों ने वॉकआउट किया।
जबकि वोटिंग के दौरान एआईएमआई, माकपा और मनसे के 4 विधायक तटस्थ रहे।

सरकार के विरोध में कोई वोट नहीं पड़ा

पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि वंदे मातरम् के बिना अधिवेशन कैसे शुरू हो गया? यह अधिवेशन नियमों के खिलाफ है, इसलिए राज्यपाल से सत्र की कार्यवाही रद्द करने की मांग करेंगे।
इस दौरान गठबंधन के विधायकों ने उनकी हूटिंग की।
भाजपा सदस्यों ने भी नारेबाजी की। गठबंधन ने पूरी उपस्थिति के लिए व्हिप जारी किया था।