sunil rathi

मुन्ना बजरंगी हत्या केस : सुनील राठी को फतेहगढ़ जेल में किया गया शिफ्ट

बागपत जेल में आतंक मचाने के बाद सुनील राठी को अब फतेहगढ़ जेल में शिफ्ट किया जा रहा है। इससे पहले सुनील राठी को फतेहगढ़ के साथ ही लखनऊ अथवा डासना जेल भेजे जाने का प्रस्ताव था। मुन्ना बजरंगी की बागपत जेल में हत्या के बाद कारागार प्रशासन चौकस है और यह कदम इसलिए उठाया गया है ताकि किसी तरह की कोई लापरवाही ना होने पाए।

फतेहगढ़ जेल में बनेगा खौफ का माहौल

राज्य सरकार ने यह आदेश कारागार प्रशासन के प्रस्ताव पर सहमति जताते हुए दिए हैं। बागपत जेल में हत्या की वारदात के बाद कारागार प्रशासन ने सुनील राठी व उस जैसे कुछ अन्य कैदियों का हवाला देते हुए उन्हें जिला कारागारों के बजाए केंद्रीय कारागारों में स्थानांतरित करे जाने का आग्रह किया था। राठी को फतेहगढ़ के साथ ही लखनऊ अथवा डासना जेल भेजे जाने का प्रस्ताव था।

Also Read :  आजमगढ़ दौरे पर पीएम, देश के सबसे बड़े एक्सप्रेस का करेंगे शिलान्यास

संयुक्त सचिव सूर्य प्रताप सिंह सेंगर की ओर से महानिरीक्षक (कारागार प्रशासन एवं सुधार सेवाएं) को भेजे पत्र में निर्देश दिया गया कि जिला कारागार बागपत में बंद विचाराधीन सुनील राठी को प्रशासनिक आधार पर केंद्रीय कारागार फतेहगढ़ में स्थानांतरित करने की स्वीकृति प्रदान की जाती है।

सुनील राठी के डर का आलम यह है कि मुन्ना बजरंगी हत्याकांड की जांच करने के लिए आए एक अधिकारी को पूछताछ के लिए सुनील राठी की बैरक में जाना था, लेकिन अफसर ने वहां पर जाने से साफ मना कर दिया। उन्होंने जेल अधीक्षक से कहा कि पहले बुलेटप्रूफ जैकेट का इंतजाम करो, उसे पहनने के बाद ही सुनील राठी के पास जाएंगे। जिसके बाद अधिकारी के लिए बुलेटप्रुफ जैकेट का इंतजाम किया गया।

जेल में हुई थी मुन्ना कि हत्या

गौरतलब है कि बीते 9 जुलाई को पूर्वांचल के कुख्यात डॉन प्रेम प्रकाश उर्फ मुन्ना बजरंगी की बागपत जेल में हत्या कर दी गई है। उसी दिन पूर्व बसपा विधायक लोकेश दीक्षित से रंगदारी मांगने के आरोप में बागपत कोर्ट में मुन्ना बजरंगी की पेशी होनी थी। 8 जुलाई को ही मुन्ना को झांसी जेल से बागपत लाया गया था। जेल में ही गोली मारकर मुन्ना बजरंगी की हत्या कर दी गई।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)