बांदा जेल पहुंचा मुख्तार अंसारी, सुरक्षा चाक चौबंद

उत्तर प्रदेश का माफिया डॉन और बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी लंबा सफर तय करके अखिकार यूपी की बांदा जेल पहुंच गया है।

0 279

उत्तर प्रदेश का माफिया डॉन और बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी (mukhtar ansari) लंबा सफर तय करके अखिकार उप्र की बांदा जेल पहुंच गया है। रोपड़ से कागजी कार्रवाई पूरी होने के बाद अंसारी को लेकर निकली पुलिस करीब 14 घंटे बाद बांदा जेल पहुंची। अंसारी के जेल पहुंचने के कुछ देर बाद एएसपी महेंद्र प्रताप सिंह चौहान ने बताया कि मुख्तार अंसारी का स्वास्थ्य ठीक है।

बांदा जेल में मुख्तार, चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात

क्षेत्राधिकारी (सीओ) सदर सत्यप्रकाश ने बताया कि हमें अंसारी को बांदा जेल लाने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। हम बसपा विधायक को एंबुलेंस में लेकर आज तड़के आए हैं। मुख्तार (mukhtar ansari) की शिफ्टिंग को लेकर बांदा जेल में सुरक्षा व्यवस्था पहले ही काफी तगड़ी कर दी गई थी। यहां चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात है। जेल की हर दीवार पर सीसीटीवी कैमरा लगा हुआ है। कुल मिलाकर सुरक्षा ऐसी है कि परिंदा भी पर न मार सके। साथ ही जेल में दाखिल होने वाले हर व्यक्ति की पूरी पड़ताल की जाएगी। बिना जांच-पड़ताल के जेल स्टॉफ को भी प्रवेश नहीं दिया जाएगा। जेल में कौन कितनी बार आया इसका लेखा-जोखा भी रखा जाएगा। इसके अलावा जेल के बाहर भी अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया है।

ड्रोन कैमरे से होगी जेल की निगरानी

सूत्रों के मुताबिक मुख्तार के आसपास जाने वाला हर जेल कर्मी बॉडी वॉर्न कैमरे से लैस रहेगा ताकि उसके और मुख्तार के बीच हुई बातचीत और व्यवहार की रिकॉर्डिग हो सके। जेल की निगरानी के लिए एक ड्रोन कैमरा भी लखनऊ से भेजा गया है। वहीं मुख्तार अंसारी की बैरक और आसपास के इलाके को सीसीटीवी कैमरों से लैस कर दिया गया है।

2 साल में 8 बार यूपी पुलिस मुख्तार को लेने रोपड़ जेल गई

पंजाब की रोपड़ जेल में रह रहे बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी (mukhtar ansari) को यह जेल खूब रास आई थी। वह यहां पर अपने आपको पूरी तरह सुरक्षित समझता था और किसी सूरत में उप्र नहीं जाना चाहता था। 2 साल में 8 बार उप्र की पुलिस उसे लेने रोपड़ गई लेकिन हर बार सेहत, सुरक्षा और कोरोना आदि को कारण बताकर पंजाब पुलिस ने उसे सौंपने से इनकार कर दिया था।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर बांदा जेल पहुंचा मुख्तार

पंजाब पुलिस हर बार डॉक्टर की सलाह का हवाला देती रही कि अंसारी (mukhtar ansari) को डिप्रेशन, शुगर, रीढ़ से संबंधित बीमारियां हैं। ऐसे में उसे कहीं और शिफ्ट करना ठीक नहीं है। जब यह मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा तो पंजाब सरकार ने आरोपी को पंजाब की जेल में रखने के लिए कई तर्क रखे लेकिन वे सब विफल रहे।

यह भी पढ़ें- योगी सरकार ने कर दिया मुख्तार के इकबाल का एनकाउंटर !

बता दें कि पंजाब पुलिस 21 जनवरी 2019 को मोहाली पुलिस बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी (mukhtar ansari) को रियल एस्टेट कारोबारी से रंगदारी मांगने के आरोप में उप्र से प्रोडक्शन वारंट पर लेकर आई थी। इसके बाद 25 जनवरी 2019 से वह रोपड़ जेल में ही बंद था।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप डेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More