क्या इस्तीफा देंगे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

‘बंगले और विभागों के लिए मंत्रियों में मारामारी मची रही तो उद्धव को देना पड़ेगा इस्तीफा’

महाराष्ट्र कांग्रेस के पूर्व सांसद यशवंतराव गडाख ने कहा कि अगर महाराष्ट्र सरकार के मंत्री ऐसे ही लड़ते रहेंगे तो सीएम ठाकरे को इस्तीफा न सौंपना पड़ जाए।

यह खबर तेजी से फैल रही है कि एनसीपी व कांग्रेसी मंत्रियों में विभागों व बंगलो को लेकर मारामारी मची है। अगर ऐसा रहा तो उद्धव ठाकरे को इस्तीफा देना पड़ सकता है।

महाराष्ट्र में कांग्रेस और एनसीपी के मंत्रियों के बीच बंगले और विभागों को लेकर मारामारी जारी है। पूर्व कांग्रेसी सांसद यशवंतराव गडाख ने दोनों पार्टियों को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि यह जारी रहता है तब उद्धव ठाकरे को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ेगा। बता दें कि शिवसेना खुद इस बात को स्‍वीकार कर चुकी है कि मंत्री पद को लेकर इस गठबंधन की सरकार में खींचतान चल रही है।
उन्होंने कहा कि अगर कांग्रेस और एनसीपी वाले बंगले और मंत्रिपद के लिए ऐसे ही काम को प्रभावित करते रहे तो सीएम उद्धव इस्तीफा देने को मजबूर हो जाएंगे।

मंत्रिपद को लेकर संग्राम

बता दें कि महाराष्ट्र में विभिन्न दलों के विधायकों में मंत्रिपद को लेकर संग्राम छिड़ा हुआ है। मंत्री बनाए गए शिवसेना के विधायक अब्दुल सत्तार ने तो ये कहते हुए इस्तीफे की पेशकश कर दी थी कि उन्हें कैबिनेट मंत्री क्यों नहीं बनाया जा रहा है। इसके अलावा कांग्रेस, शिवसेना और एनसीपी के कई विधायक नाराज बताए जाते हैं।

कांग्रेस विधायक कैलाश गौरांतयाल की चेतावनी

चार जनवरी को जालना से कांग्रेस विधायक कैलाश गौरांतयाल ने भी बगावती रुख इख्तियार कर लिया था। उन्होंने कहा था, मैं और मेरे समर्थकों ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को अपना इस्तीफा सौंपने का फैसला किया है। मैं तीसरी बार विधायक चुना गया हूं और मैं अपने लोगों के लिए काम करता हूं। इसके बावजूद मुझे मंत्री नहीं बनाया गया।