Lucknow : मनमाने दाम लेने पर पुलिस कसेगी नकेल

सभी जगह मनमाने दाम

0 104

Lucknow में लॉकडाउन के दौरान जमाखोरी और कालाबाजारी करने वालों की अब खैर नहीं है। ऐसे लोगों पर पुलिस ने नकेल कसने जा रही है। इसकी पड़ताल के लिए पुलिस सादी वर्दी में जाकर दाम पता करेगी अगर ऐसा हुआ तो कार्रवाई भी होगी। राजधानी Lucknow की मंडी में अनाज, फल, और सब्जी के दाम दोगुना है। आलमबाग के बाजार में आलू 40, मिर्च 120 किलो, अदरक 130 किलो बेचा जा रहा है। इसी प्रकार अनाज के भी थोक दुकानदार मनमाने ढंग से समान बेंच रहे हैं।

यह भी पढ़ें : जिम नहीं जा सकती तो Amy Jackson तो टॉयलेट पेपर के साथ किया वर्कआउट

सभी जगह मनमाने दाम

इसके अलावा Lucknow की चौक, ठाकुरगंज, रिवरबैंक, गोमतीनगर, सदर, राजाजीपुरम समेत शहर की कई फुटकर मंडियों में मुनाफाखोरों ने जमकर लूट मचा रखी है।

मनमानी का आलम यह है कि दुबग्गा और सीतापुर रोड स्थित थोक मंडियों से दोगुने से भी ज्यादा कीमत पर सब्जी बेची रही है। थोक मंडी में अच्छा आलू 18 से 20 रुपये किलो मौजूद हैं। वहीं, फुटकर मंडी में यह 40 से 50 रुपये तक बिक रहा है।

प्याज 60 रुपये किलो तक बिक रहा

यही हाल प्याज का है। 26 रुपये किलो थोक मंडी में मिलने वाला प्याज 60 तक बाजार में बेचा जा रहा है। 24 से 26 रुपये किलो लाने वाले टमाटर को 60 रुपये से भी अधिक कीमत में बेचा जा रहा है।

Lucknow डीसीपी नार्थ और पुलिस के प्रवक्ता सर्वेश त्रिपाठी ने बताया कि “कालाबाजारी करने वालोें के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी। हमारी टीम सादी वर्दी में जांच करेगी। हमारे लोग ज्वाइंट टीम बनाकर इसकी जांच करने जा रहे है। कोई भी इस तरह की चीजें सामने आएगीं तो उस पर एक्शन होगा। पब्लिक को कोई दिक्कत होगी तो उस पर कानूनी कार्रवाई होगी।”

मंडी सचिव संजय सिंह ने बताया कि माल की आपूर्ति में बाधा न होने पाए, इस दिशा में कदम उठाए जा रहे हैं। मिलों के संचालन के लिए पास जारी हो रहे हैं।

यह भी पढ़ें : कोरोना की गिरफ्त में विश्व की प्रमुख हस्तियां

वाराणसी में भी सख्ती

वाराणसी जिला प्रशासन ने भी आवश्यक चीजों व ग्रासरी के सामानों के दामों में बढ़ोतरी पर सख्त रूख अपनाया है। उसने तो घर घर डिलिवरी के​ लिए जत्था भी रवाना किया है।

-Adv-

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More