मोदी सरकार के लिए एक हफ्ता चुनौती भरा, जानें क्यों…?

जम्मू कश्मीर में आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद मोदी सरकार के लिए आने वाला एक हफ्ता चुनौती पूर्ण हैं। दरअसल, कल यानी शुक्रवार को जुमे की नमाज है, वहीं इसके बाद बकरीद और फिर 14 और 15 अगस्त को पाकिस्तान व भारत का स्वतंत्रता दिवस है। ऐसे में घाटी की स्थिति पर निगरानी की बेहद जरुरी है।

कश्मीर को लेकर मोदी सरकार की परीक्षा शुरू:

एक तरफ कश्मीर से आर्टिकल 370 को हटाए जाने को लेकर भारत में अलगाव वादियों समेत कश्मीर में कईयों के विरोध के स्वर उठ रहे हैं तो वहीं पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान भी बौखलाहट में तरह तरह के बेतुके फरमान जारी कर रहा है। इसके अलावा आतंकी संगठन भी इस फैसले से बौखलाए हुए हैं। वहीं स्वतंत्रता दिवस और बकरीद को लेकर आतंकी साजिशों की भी आशंका बनी हुई है। इस लिहाज से पूरे विश्व की नजर भारत पर है।

ये भी पढ़ें:  आर्टिकल 370 पर पाकिस्तान की बेबसी आई नजर, उठा रहा बेतुके कदम

ये हैं वजह:

जम्मू-कश्मीर में अगला एक हफ्ता परीक्षा का है। शुक्रवार को जुमे की नमाज है। राज्य की विशेष स्थिति में बदलाव के बाद यह पहला जुमा होगा। इसके बाद 12 अगस्त को बकरीद है। 14 अगस्त को पाकिस्तान का और 15 अगस्त को देश का स्वतंत्रता दिवस है।

त्यौहार के दौरान कर्फ्यू  में ढील की संभावना:

जम्‍मू-कश्‍मीर को विशेष राज्‍य का दर्जा देने वाले अनुच्‍छेद 370 के प्रावधान हटाने के बाद से प्रदेश में भारी सुरक्षाबल तैनात है। कई इलाकों में कर्फ्यू जैसा माहौल है। कश्‍मीर में धारा 144 कब तक रहेगा, इसकी अभी तक कोई आधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि, जानकारी के मुताबिक आगामी शुक्रवार और ईद-उल-अजहा के मुबारक मौके पर कश्‍मीरियों को कर्फ्यू में ढील दी जा सकती है।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)