subodh kumar bulandshahar

बुलंदशहर हिंसा में शहीद हुए कोतवाल सुबोध कुमार सिंह

बुलंदशहर हिंसा : इंस्पेक्टर सुबोध की हत्या का आरोपी फोजी हिरासत में

बुलंदशहर में गोलीबारी की घटना में कथित रूप से संलिप्त एक जवान को शनिवार को जम्मू-कश्मीर में हिरासत में ले लिया गया। बुलंदशहर की घटना में एक पुलिस अधिकारी और एक स्थानीय नागरिक की मौत हो गई थी।

सेना सूत्रों ने इस बात की जानकारी देते हुए बताया, जितेंद्र मलिक उर्फ जीतू फौजी को सोपोर में 22 राष्ट्रीय राइफल्स द्वारा हिरासत में लिया गया। उत्तर प्रदेश पुलिस के विशेष जांच दल (एसआईटी) उसे हिरासत में लेने के लिए देर शाम यहां पहुंच सकता है।

Also Read :  रैली से पहले हुंकार, कौन कहता हैं शिवपाल अकेला हैं..

पिछले सप्ताह बुलंदशहर में भीड़ द्वारा हुई हिंसा में पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह और चिंगरावठी गांव के रहने वाले सुमित कुमार की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में हुई हिंसा मामले में प्रदेश सरकार ने शनिवार को बुलंदशहर के एसएसपी कृष्णा बहादुर सिंह का तबादला कर दिया और उन्हें डीजीपी मुख्‍यालय में तैनाती दी गई है। गृह विभाग के एक अधिकारी ने शनिवार को यह जानकारी दी। राज्य सरकार ने प्रभाकर चौधरी को बुलंदशहर का नया कप्तान बनाया है।

दो और पुलिस अधिकारियों का तबादला किया गया है

अधिकारियों ने बताया कि बुलंदशहर में सोमवार को हुई मॉब लिंचिंग के मामले में दो और पुलिस अधिकारियों का तबादला किया गया है। खेत में कुछ हिंदूवादी संगठनों के कार्यकर्ताओं द्वारा गोवंश के अवशेष मिलने के बाद बिगड़ी स्थिति को संभालने में नाकाम रहने की वजह से दोनों अधिकारियों पर कार्रवाई की गई है।

इस बीच, यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने बुलंदशहर की इस घटना को दुर्घटना बताया है। उन्होंने पहले कहा था कि यह घटना एक बहुत बड़ी साजिश थी, लेकिन शुक्रवार को दिल्ली में कहा कि यह घटना वास्तव में एक दुर्घटना थी। उन्होंने कहा, “उत्तर प्रदेश में कोई मॉब लिंचिंग की घटना नहीं हुई है। बुलंदशहर में जो हुआ, वो एक दुर्घटना थी।” पुलिस ने नौ आरोपियों को गिरफ्तार किया है लेकिन मुख्य साजिशकर्ता योगेश राज गिरफ्त से बाहर है।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)