अल्पसंख्यक महिलाओं को क़ानूनी अधिकार की दी गयी जानकारी

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में एच जी फाउंडेशन द्वारा दो दिवसीय सेमीनार के पहले दिन आयोजित अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय भारत सरकार के सहयोग द्वारा महिलाओ को आत्मनिर्भर बनाने, क़ानूनी अधिकार और प्रधानमंत्री के 15 सूत्रीय कार्यक्रम का प्रशिक्षिण लखनऊ जनपद के खुर्रमनगर स्थित खुर्रम नगर गेस्ट हाउस में कुशल प्रशिक्षकों द्वारा प्रशिक्षण दिया गया था।

कार्यक्रम में दी गयी तीन तलाक़ की जानकारी:

कार्यक्रम की मुख्य अतिथि अल्पसंख्यक आयोग की सदस्य रूमाना सिद्दीक़ी उपस्थित रहीं। इस दौरान मैडम रूमाना ने जानकारी दी कि, मुस्लिम महिलाओं को पुरानी कुप्रथाओं से ऊपर उठ कर प्रधानमंत्री मोदी द्वारा चलाई जा रही योजनाओं से जुड़ना चाहिये।

साथ ही यह भी बताया कि, भारत सरकार और राज्य सरकार दोनों ही मुस्लिम समाज के उत्थान के लिए प्रतिबद्ध हैं। जिसका परिणाम यह है कि, पिछली सरकारों से ज्यादा का बजट हर साल अल्पसंख्यक मंत्रालय को दिया जा रहा है। मैडम रूमाना ने तीन तलाक की क़ानूनी जानकारी भी दी। कार्यक्रम में उपस्थित सब रजिस्ट्रार हाईकोर्ट महेंद्र भीष्म ने क़ानूनी शिक्षा के महत्त्व को विस्तार से बताया।

साथ ही महिलाओं को अपने छोटे बच्चों से अपनी बात को समझाने के लिए कहानियों के महत्व को भी बताया। समाजसेवी मानसी प्रीत ने गरीब महिलाओं का उत्थान कैसे हो उसकी जानकारी भी दी।कार्यक्रम के अन्त में संस्था द्वारा महिलाओं को विषय सम्बधी पुस्तिका और अन्य सामग्री का वितरण भी किया गया। संस्था एच जी फाउंडेशन के अध्यक्ष अमित कुमार त्रिपाठी ने प्रधानमंत्री द्वारा चलाई जा रही 15 सूत्रीय अल्पसंख्यक समाज के लिए कार्यक्रम को पढ़ कर भी समझाया।

कार्यक्रम में मिली योजनाओं की जानकारी से महिलाएं बहुत उत्साहित दिखीं। इस कार्यक्रम में उपस्थित संस्था के संरक्षक हरि प्रताप त्रिपाठी, सरकारी अधिवक्ता रोशन निषाद, मो. फैज़ शेख,अर्ज़ फाउंडेशन से जीतेन्द्र, मंच संचालक अमित सिंह, डॉ. रश्मि सिंह, शहनाज, सबनम, सुमित के साथ अन्य अल्पसंख्यक महिलाएं उपस्थित रही थीं।

ये भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव पद के लिए शुरू हुई रेस