rani mistri

जहां पुरुष राजमिस्त्रियों का ही वर्चस्व है, गायत्री बनी रानी मिस्त्री

अफीम की खेती और मानव तस्करी को लेकर बदनाम झारखंड के पिछड़े जिले खूंटी के गुटजोरा की गायत्री की बात ही निराली है। वह साधारण रेजा (महिला मजदूर) नहीं रहीं। निर्माण के क्षेत्र में जहां पुरुष राजमिस्त्रियों का ही वर्चस्व है, वहां अपनी धाक जमाते हुए गायत्री रानी मिस्त्री हो गई हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये आठ मिनट तक उनसे बात की है, उनके काम की सराहना की है। इससे गायत्री का हौसला और परवान चढ़ गया। वह अपने क्षेत्र में अपनी तरह और रानी मिस्त्री तैयार करने में जुट गई हैं।

खूंटी के पिछड़े इलाके से आने वाली गायत्री ने रानी मिस्त्री का प्रशिक्षण लेकर प्रधानमंत्री के स्वच्छता अभियान में हाथ बंटाया, शौचालय बनाए। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत घरों का निर्माण किया, और भी घर बना रही हैं। अपने हाथों से खुद का घर बनाया है। प्रधानमंत्री की सराहना से प्रेरित गायत्री दूसरों को रानी मिस्त्री बनाने के लिए प्रशिक्षण में जुटी हैं।

Also Read :  आजाद का बयान देश को शर्मसार करने वाला : भाजपा

30 लोगों की टीम को प्रशिक्षण दे रही हैं, ताकि उनके हाथ भी मजबूत हों और दूसरों का आशियाना तैयार हो। उसके काम की तारीफ हुई तो पड़ोसी जिलों से भी उसकी मांग होने लगी है। गुमला व सिमडेगा जिला प्रशासन ने भी प्रशिक्षण के लिए अपने यहां गायत्री को बुलाया है। गायत्री कहती हैं कि अभी खूंटी में काम चल रहा है। अगले महीने गुमला और सिमडेगा भी जाएंगी।

राज्य सरकार की ओर से भी राजमिस्त्री की तर्ज पर महिलाओं को रानी मिस्त्री की ट्रेनिंग दी जा रही है। गायत्री ने कहा कि 2016 में रानी मिस्त्री का प्रशिक्षण लेने के बाद वह तीन शौचालयों व प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 15 घरों का निर्माण कर चुकी हैं। पीएम आवास का काम अभी भी चल रहा है। लोगों को मेरी कारीगरी पसंद आ रही है, इसलिए भवन निर्माण का काम मिल रहा है। मेरा घर भी झोपड़ी जैसा था, मैंने अपने मकान का निचला तल्ला भी खुद बनाया। पति और बच्चों ने भी सहयोग किया।

खूंटी में महिलाएं हो रहीं दक्ष

खूंटी की लगभग एक दर्जन महिलाएं राजमिस्त्री प्रशिक्षण लेकर रानी मिस्त्री बन गई हैं। लोगों के सपने का घर तैयार कर रही हैं। ऐसी महिलाएं समाज की अन्य महिलाओं के लिए प्रेरणास्रोत बन गई हैं। लोग इनके काम की सराहना कर रहे हैं। पांच मई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये से देश की महिलाओं के संवाद कार्यक्रम में खूंटी की तीन रानी मिस्त्रियों से बात की थी। महिलाओं ने अपने अनुभव को पीएम के साथ साझा किया था।ऐसी महिलाएं समाज में अन्य महिलाओं के लिए प्रेरणास्रोत बन रही हैं। जिला प्रशासन ऐसी महिलाओं को हर तरह की मदद करने को तैयार है। प्रधानमंत्री आवास योजना व शौचालय निर्माण योजना में इन महिलाओं को काम मिल रहा है। साभार दैनिक जागरण

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)