30 जून के बाद एक बार फिर हो सकता है संपूर्ण लॉकडाउन ! जानें जरूरी बातें…

0 6,932

कोरोना वायरस के चलते देश में लगाए गए लॉकडाउन और उसके बाद अनलॉक 1 (Unlock ) के बाद भी महामारी का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। ऐसे में सोशल मीडिया पर फिर से पूर्ण लॉकडाउन की खबरें सामने आ रही हैं। हालांकि, खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में लॉकडाउन के दोबारा लागू होने की खबरों को अफवाह बताया है।

पीएम मोदी ने बताया अफवाह…

इसके अलावा पीएम मोदी ने मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान देश के मौजूदा हालातों को देखते हुए अनलॉक 2.0 (Unlock ) के बारे में जरुरी विचार करने की बात कही है। PM मोदी ने आर्थिक गतिविधियों को दिशा देने के साथ ही अनलॉक 2.0 (Unlock ) की तैयारियों में जुटने की बात कही है। उन्होंने कहा, हमें आर्थिक गतिविधितयों को खोलने के साथ नुकसान को कम से कम करने के बारे में विचार करना होगा। फिलहाल, सरकार दोबारा पूर्ण लॉकडाउन के मूड में नहीं है।

आनलॉक-2.0 में मिल सकती हैं ये सुविधाएं…

* अनलॉक 2.0 के दौरान भी और इसके बाद भी लोगों को अपनी और अपनों की सुरक्षा के लिए वर्तमान में जारी मास्क पहनने, सेनेटाइजेशन और अन्य स्वच्छता संबंधी बातों का ध्यान रखना होगा।

* देश में अब जब अनलॉकिंग का चरण जारी है, तो लॉकडाउन के बारे में उड़ रही अफवाहों को नजरअंदाज करना होगा।

* अनलॉक 2.0 में देश में जारी प्रतिबंध में और भी कमी लाई जा सकती है। आर्थिक गतिविधियों को गति देने के लिए सभी राज्य सरकारें निर्माण-संबंधी गतिविधियों को बढ़ावा दे सकती हैं।

* कोरोना वायरस पर नियंत्रण के लिए COVID-19 संक्रमितों से संपर्क में आए लोगों को ट्रेस करने और उनके आईसोलेशन पर जोर दिया जा सकता है। ताकि, महामारी को कंट्रोल किया जा सके।

* राज्यों को वायरस से निपटने की क्षमता बढ़ाने के लिए स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे, सूचना प्रणाली, भावनात्मक समर्थन और सार्वजनिक भागीदारी पर जोर देना जारी रखा जाए, इस पर सरकार पूरा जोर दे रही है।

* जिन राज्यों में कोरोना के रिकवरी आंकड़े अच्छे हैं, उन्हें दूसरे राज्यों से भी इसके बारे में जानकारी शेयर करने को भी कहा जा सकता है। ताकि, अन्य राज्य भी मरीजों के इलाज के दौरान इनका ध्यान रख सकें।

यह भी पढ़ें: Covid 19 : 46 फीसदी लोग इस महामारी को मान रहे प्रकृति का संदेश

यह भी पढ़ें: Covid 19 अध्ययन : पुरुष ज्यादा हो रहे हैं शिकार?

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप हेलो एप्पडेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More