गिरफ्तारी पर शहीद CO के साढू ने उठाए सवाल, कहा- विकास को मौत से बचाया गया

0 980

मोस्टवांटेड विकास दुबे की गिरफ्तारी उज्जैन में होने के बाद शहीद सीओ देवेंद्र मिश्रा के स्वजन ने सवाल उठाए हैं। दिवंगत सीओ के साढ़ू कमलाकांत दुबे कहा कि विकास को मौत से बचाया गया है।

कमलाकांत ने कहा, “इतने सुनियोजित ढंग से आत्मसमर्पण हो गया। अभी 12 घंटे पहले वह फरीदाबाद में था। फिर वह महाकाल पहुंच गया। जिस ढंग से उसकी गिरफ्तारी हुई है, क्या नहीं लगता कि उसके सिर पर सरपरस्ती बरकरार है। उसको मौत से बचाया गया है।”

vikas-devendra

विकास दुबे की गिरफ्तारी पर सवाल

उन्होंने गुरुवार को पत्रकारों से बातचीत में कहा, “देवेंद्र मिश्रा सहित आठ पुलिस वालों की जो हत्या हुई है, वह अकेले विकास दुबे ने नहीं की है, या उसके गैंग ने नहीं की है। उसके सरपरस्त इन हत्याओं में बराबर के भागीदार थे। जो अब तक उसे बचाते रहे हैं, उन्हीं की सलाह पर विकास दुबे ने सरेंडर किया है। मैं इसे पकड़ना नहीं कहूंगा। मीडिया वालों को बुलाकर कोई ऐसे गिरफ्तारी करता है। उसको मौत से बचाया गया है। उसे विश्वास था कि उसे बचा लिया जाएगा।”

पुलिस विभाग में सभी गलत नहीं होते-कमलाकांत

कमलाकांत ने कहा कि पुलिस विभाग में सभी गलत नहीं होते। इसमें कुछ लोग पैसा लेकर कर्तव्यहीनता करते हैं। नेताओं का धर्म समाज की सेवा है। मगर वे भी अपराधियों से हाथ मिला लेते हैं। अधिकारी, नेता, अपराधी जब हाथ मिला लेते हैं, तब ऐसी घटनाएं होती हैं।

विकास दुबे का नेटवर्क सक्रिय है- कमलनाथ

शहीद सीओ के साढ़ू ने कहा, “विकास दुबे का नेटवर्क सक्रिय है, वरना इतने सारे राज्यों की पुलिस अलर्ट रहते हुए, सारे राज्यों की एसटीएफ के एक्शन में रहते हुए एक अपराधी महाकाल मंदिर में जाकर दर्शन के टिकट कटा रहा था, कहां थे सब लोग? उसके बाद गार्ड फोन कर रहे हैं। पुलिस जब पहुंच रही है तो मीडिया वालों को लेकर पहुंच रही है। दुर्दात अपराधी की क्या इस तरह गिरफ्तारी होती है?”

कानपुर एनकाउंटर का मुख्य आरोपी विकास दुबे

उन्होंने कहा, “मैं पुलिस वालों पर आरोप नहीं लगा रहा हूं, यह तंत्र पर सवाल है। इस तरह की सरपरस्ती से समाज को नुकसान हो रहा है। ऊपर सरपरस्त होते हैं तो अपराधी का राज जेल से भी चलता है।”

यह भी पढ़ें: पुलिस के दबोचने पर चिल्लाया कानपुर शूटआउट का मास्टरमाइंड- ‘मैं हूं विकास दुबे कानपुर वाला’

यह भी पढ़ें: सनी देओल की फिल्म ‘अर्जुन पंडित’ से प्रभावित था विकास दुबे, ‘पंडित’ कहलाना था पसंद

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप हेलो एप्पडेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More