किन्नरों का अंतिम संस्कार देखने पर है मनाही, रात के अंधेरे में शव के साथ किया जाता है ऐसा; जानें रहस्य

0 706

किन्नर, जिसकी एक दुआ के लिए तो हम तरसते हैं, जो आपकी खुशियों को दोगुना करते है। किन्नरों के बारे में आम लोग को बहुत कम ही जानकारी मिल पाती है।

इनकी दुनिया हमारी दुनिया से जितनी अलग होती है, इनके रीति-रिवाज़ और संस्कार भी उतने ही अलग होते है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि जब किसी किन्नर की मौत हो जाती है, तो उनका अंतिम संस्कार कैसे किया जाता है।

अंतिम संस्कार की प्रक्रिया ऐसे शुरू होती है-

hijda

किन्नरों की मान्यता के अनुसार अगर किसी किन्नर के अंतिम संस्कार को आम इंसान देख ले, तो मरने वाले का जन्म फिर से किन्नर के रूप में ही होगा। इनकी डेड बॉडी को जलाया नहीं जाता बल्कि दफनाया जाता है।

जूते-चप्पलों से पीटा जाता है शव को-

hijra

किन्नरों की शव यात्रा दिन के वक्त नहीं बल्कि रात के वक्त निकाली जाती है। शव यात्रा को उठाने से पहले शव को जूते-चप्पलों से पीटा जाता है। इससे उस जन्म में किए सारे पापों का प्रायश्चित हो जाता है। समुदाय में किसी भी किन्नर की मौत के बाद पूरा समुदाय एक हफ्ते तक भूखा रहता है।

आश्चर्य करता है कन्नर का यह सच-

hijra funeral

आपको जानकर आश्चर्य होगा कि किन्नर समाज अपने किसी सदस्य की मौत के बाद मातम नहीं मनाते। इसके लिए वह खुशियां मनाते हैं और अपने आराध्य देव अरावन से प्रार्थना करते है कि अगले जन्म में मरने वाले को किन्नर ना बनाएं।

यह भी पढ़ें: पीपल और बरगद के पेड़ की हुई शादी, हैरान करने वाली है वजह

यह भी पढ़ें: वाकई ! इस चमत्कार को नमस्कार है !

-Adv-

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप डेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More