bihar

महिला कॉस्टेबल की मौत पर सिपाहियों ने किया विद्रोह, तोड़फोड़

इलाज के दौरान महिला सिपाही की मौत के बाद पटना पुलिस लाइन में सिपाहियों ने शुक्रवार को जमकर हंगामा किया। इस दौरान दर्जनों गाड़ियों में तोड़फोड़ की गई है और कई राउंड गोलियां भी चलाई गई हैं।

हंगामे के दौरान एसपी सिटी की पिटाई की भी सूचना है। हंगामे के दौरान सार्जेंट मेजर सह डीएसपी मसलाउद्दीन, एसपी सिटी और एसपी ग्रामीण को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा गया है।

महिला कॉस्टेबल काफी दिनों से मांग रही थी छुट्टी

पटना पुलिस लाइन में शुक्रवार को जमकर हंगामा हुआ है। बताया जाता है कि पुलिस लाइन में तैनात एक महिला सिपाही काफी दिनों से बीमार थी। वह काफी समय से छुट्टी मांग रही थी लेकिन उसे छुट्टी नहीं मिल रही थी। जब उसका स्वास्थ्य अधिक खराब हो गया तो उसे पटना के एक निजी अस्‍पताल में भर्ती कराया गया।

Also Read :  कोरिया की प्रथम महिला के स्‍वागत में सरकार ने किये तगड़े इंतजाम

बताया जाता है कि शुक्रवार को इलाज के दौरान महिला सिपाही की मौत हो गई। इस बात से नाराज पुलिस कांस्‍टेबलों ने हंगामा कर दिया। कांस्‍टेबलों ने पुलिस लाइन में खड़ी दर्जनों गाड़ियों में तोड़फोड़ कर दी और कई राउंड गोलियां चलाईं।

हंगामे के दौरान सार्जेंट मेजर सह डीएसपी मसलाउद्दीन, एसपी सिटी और एसपी ग्रामीण को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा गया है। अभी भी हालात काबू में नहीं है।

यूपी के पूर्व डीजीपी ने की निंदा

सिपाहियों के इस विद्रोह को यूपी के पूर्व डीजीपी विक्रम सिंह ने कड़े शब्दों में निंदा की है। उन्होंने कहा कि पटना की यह घटना देश की पुलिस के लिए एक गलत संदेश है। विक्रम सिंह ने कहा कि सिपाहियों के इस विरोध पर बिहार पुलिस के अधिकारियों को कड़ा एक्शन लेना चाहिए, जिससे एक नजीर पेश हो। उन्होंने कहा कि दोषी सिपाहियों को चिन्हित कर कठोरतम कार्रवाई की जानी चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा कि इसमें बड़े अधिकारियों की भी लापरवाही है। क्योंकि ऐसी नौबत आनी ही नहीं चाहिए। साभार

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)