ASP KA TANDAV

भाजपा नेता के रेस्तरां में शराबी ASP का तांडव, की तोड़फोड़

शराब के नशे में चूर  उत्तर प्रदेश के पुलिस ऑफिसर एएसपी राजेश सिंह ने गुरूवार को राजधानी लखनऊ के एक रेस्तरां में जमकर बवाल काटा। 

ये रेस्तरां भाजपा के क्षेत्रीय महामंत्री यम्बक तिवारी के छोटे भाई मयंक तिवारी का है। रेस्तरां गोमतीनगर के ग्वारी क्रॉसिंग के करीब है। रेस्तरां बीजेपी नेता का होने के कारण देखते ही देखते वहां भाजपा कार्यकर्ताओं का जमावड़ा लग गया।

मामला तूल पकड़ता देख  एएसपी और अन्य पुलिसकर्मी भाग खड़े हुए। बीजेपी नेता त्रयम्बक तिवारी ने एएसपी के खिलाफ गोमतीनगर थाने में तहरीर दी है। वहीं, गोमतीनगर इंस्पेक्टर त्रिलोकी सिंह का कहना है कि तहरीर नहीं मिली है। शिकायत मिलने पर जांच की जाएगी।

बीजेपी के क्षेत्रीय महामंत्री त्रयम्बक तिवारी के छोटे भाई मयंक तिवारी का ग्वारी क्रॉसिंग के पास रेस्तरां है। मयंक का आरोप है कि गुरुवार रात करीब 8 बजे एएसपी राजेश सिंह रेस्तरां आए और काउंटर पर मौजूद कर्मचारी राहुल को थप्पड़ जड़ते हुए सीसीटीवी फुटेज दिखाने को कहा। हंगामा देख कर्मचारियों ने बीच-बचाव किया।

Also Read :  आरएसएस के शस्त्र पूजन में चली गोली, एक गंभीर घायल

इस पर एएसपी ने गोमतीनगर पुलिस को फोन कर बुला लिया। आरोप है कि पुलिस ने एएसपी का साथ देते हुए तोड़फोड़ की और शटर बंद करवा दिया। घटना के कुछ देर बाद इंस्पेक्टर गोमतीनगर त्रिलोकी सिंह पहुंचे। आरोप है कि गोमतीनगर सीओ और इंस्पेक्टर रेस्तरां मालिक पर समझौता करने का दबाव बनाने लगे। सूचना पर बीजेपी नेता के सैकड़ों समर्थक पहुंच गए। लोगों की भीड़ बढ़ती देख एएसपी व पुलिसकर्मी भाग निकले।

शराब के नशे के में धुत थे एएसपी

मयंक के मुताबिक वह परिवारिजनों के साथ घूमने जा रहे थे। तभी एएसपी राजेश सिंह अपनी गाड़ी में टक्कर मारने वाले शख्स की तलाश में रेस्तरां में लगे सीसीटीवी कैमरे चेक करने आए थे। नशे में धुत होकर एएसपी ने अभद्रता की।

भाजपा नेता ने एसएसपी को दी जानकारी

त्रयम्बक तिवारी ने एसएसपी कलानिधि नैथानी के सीयूजी नम्बर पर फोन कर घटना की जानकारी दी। उन्होंने एसएसपी से कहा कि आपकी पुलिस विवेक तिवारी को गोली मार सकती है तो आशंका है यहां भी गोली मारकर हमारी हत्या कर सकती है।

कर्मचारियों के साथ मारुपीट और जेल भेजने की धमकी

त्रयम्बक तिवारी का आरोप है कि गोमतीनगर थाने में तैनात एसआई अमरनाथ सिंह यादव और एसआई राजवीर सिंह ने रेस्तरां कर्मचारियों को पीटा और जेल में डालने की धमकी भी दी। आरोप है कि पुलिसकर्मियों ने रेस्तरां में ग्राहकों से भी अभद्रता की। चाय पी रहे केजीएमयू के डॉ. शिवम को रेस्तरां का कर्मचारी समझकर पुलिस ने जीप में बैठा लिया।

इस मामले में एसएसपी कलानिधि नैथानी ने कहा कि मामला मेरी जानकारी में है। जांच की जाएगी, अगर एएसपी इस मामले में दोषी पाए गए तो उन पर कार्रवाई की जाएगी।

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)