ब्रह्मचारी होने के बाद भी हनुमान जी को करनी पड़ी थी शादी

0 371

हिंदू धर्म में पवनसुत और राम भक्त भगवान हनुमान को बाल ब्रह्मचारी के रूप में जाना जाता है यही कारण है कि अधिकतर लोगों को लगता है कि हनुमान जी का कभी विवाह नहीं हुआ। लेकिन कई पौराणिक कथाओं और धर्म शास्त्रों में हनुमान जी का विवाह होने की बात कही गई है।

आपको यह जानकर आश्चर्य होगा, लेकिन तेलंगाना में हनुमान जी का एक ऐसा मंदिर भी है जहां हनुमान जी की उनकी पत्नी के साथ मूर्ति स्थापित है और उन दोनों की पूजा की जाती है। हनुमान जी के विवाह से जुड़ी पौराणिक कथा क्या है, और विवाह के बाद भी कैसे ब्रह्मचारी हैं हनुमान जी, आइए जानते हैं…

सुर्वचला से हुई थी हनुमान जी की शादी

पराशर संहिता में एक पौराणिक कथा का उल्लेख है जिसके मुताबिक हनुमान जी ने सूर्य देव की पुत्री सुर्वचला से विवाह किया था। हनुमान जी को यह विवाह इसलिए करना पड़ा क्योंकि पवनपुत्र हनुमान जी ने सूर्य देव को अपना गुरु माना था और उन्होंने सूर्यदेव से नौ विद्याएं प्राप्त करने का निश्चय किया था।

सूर्य देव ने नौ में से पांच विद्या तो हनुमान जी को सिखा दी लेकिन बाकी चार विद्याएं सीखने के लिए विवाहित होना आवश्यक था। तब सूर्य देव ने हनुमान जी से विवाह करने को कहा और अपनी पुत्री सुर्वचला से हनुमान जी का विवाह संपन्न करवाया।

टूटने नहीं दिया ब्रह्मचर्य

सूर्य देव ने हनुमान जी को बताया था कि विवाह के बाद सुर्वचला फिर से तपस्या में लीन हो जाएगी और ऐसा हुआ भी। हनुमान जी भी अपनी बाकी चार विद्याओं का ज्ञान प्राप्त करने में लग गए। चूंकि सुर्वचला का जन्म किसी गर्भ से नहीं हुआ था, इसलिए उससे शादी करने के बाद भी हनुमान जी के ब्रह्मचर्य में कोई बाधा नहीं आयी और विशेष परिस्थितियों में विवाहित होने के बाद भी हनुमान जी ब्रह्मचारी ही कहलाए।

पत्नी सुर्वचला संग हनुमान जी की होती है पूजा

तेलंगाना के खम्मम जिले में हनुमान जी का एक खास मंदिर है जहां गृहस्थ रूप में पत्नी सुर्वचला संग हनुमान जी की पूजा की जाती है। ऐसी मान्यता है कि इस मंदिर में ईश्वर के दर्शन मात्र से वैवाहिक जीवन में आने वाली सभी बाधाएं दूर हो जाती हैं।

(नोट: इस लेख में दी गई सूचनाएं सामान्य जानकारी और मान्यताओं पर आधारित हैं। Journalist cafe इनकी पुष्टि नहीं करता है)

यह भी पढ़ें : अक्षय तृतीया से बुद्ध पूर्णिमा और ईद तक, इस महीने में आएंगे ये प्रमुख व्रत त्यौहार

-Adv-

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं। अगर आप डेलीहंट या शेयरचैट इस्तेमाल करते हैं तो हमसे जुड़ें।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More