पोर्न देखेगा तो घर में रुकेगा यूथ

0 463

कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए हुए लॉकडाउन का कहीं कहीं तो जोरदार असर देखने को मिल रहा है तो कई जगहों पर लोग इसे नजरअंदाज कर दे रहे हैं। ऐसे में लोगों को घरों में रोकने के लिए लोग तरह तरह के उपाय भी सुझा रहे हैं। मध्य प्रदेश के एक गैर सरकारी संगठन ने तो लोगों को घरों में रोकनेके लिए पीएम नरेन्द्र मोदी से पोर्न साइट पर लगे बैन को हटाने की मांग तक कर डाली है।

यह भी पढ़ें : विकास की राह पर खुश क्यों नहीं भारत

मध्य प्रदेश के यूथ क्विक फांउंडेशन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लॉक डाउन के दौरान नेटफ्लिक्स जैसी अन्य साइट की इंटरनेट सेवा और सब्सक्रिप्शन मुफ्त और पोर्न साइट से बैन हटाने की मांग की है। संगठन का कहना है कि कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए 21 दिन का लॉक डाउन किया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी इस बीमारी की रोकथाम के लिए लोगों को घरों में ही रहने की सलाह दी है। , इन स्थितियों में अगर हाई स्पीड इंटरनेट कनेक्शन के साथ ऑन लाइन स्टर्मिंग सर्विस नेट फ्लिक्स, हॉटस्टार, अमेजन प्राइम, वूट, अल्ट बालाजी आदि का फ्री डाटा सब्सक्रिप्शन दिलाया जाए और पोर्न वेबसाइट पर लगे प्रतिबंध को खत्म कर उसे भी मुफ्त में उपलब्ध कराया जाए तो युवाओं को घरों में रोकना आसान होगा।

यह भी पढ़ें : कोरोना की गिरफ्त में विश्व की प्रमुख हस्तियां

युवाओं के लिए पोर्न साइट्स से हटाया जाय बैन
संगठन का मानना है कि देश आबादी की 60 प्रतिशत जनसंख्या युवा है, इसलिए इस दिशा में पहल की जाना चाहिए, साथ ही सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से कहा है कि लॉक डाउन के बाद पोर्न वेबसाइट पर फिर रोक लगा दी जाए।

यह भी पढ़ें : लॉकडाउन: काशी में कोई भूखा ना रहे, खुला भोले बाबा का दरबार

फाउंडेशन के अध्यक्ष ऋषभ राज सिंह कहा कि, ऑन लाइन स्टर्मिंग सर्विस का फ्री डाटा देने मांग की है, साथ पोर्न साइट से लॉक डाउन के दौरान बैन हटाने की मांग की है। ऐसा करने से युवाओं को घरों में व्यस्त रखा जा सकेगा।

यह भी पढ़ें : लॉकडाउन: ट्रेन ना मिली तो स्कूटी से ही तय किया मुम्बई से बनारस का सफर

-Adv-

(अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।)

Comments

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More